जासं, भुवनेश्वर : गुडिंचा आध्यात्मिक ट्रस्ट की तरफ से हर साल की तरह इस साल भी 7वां आध्यात्मिक पुस्तक मेला भुवनेश्वर प्रदर्शनी मैदान में 14 सितंबर से लगाया जाएगा। 10 दिवसीय यह मेला 24 सितंबर तक चलेगा। मंगलवार को इस मेले के संदर्भ में एक पत्रकार सम्मेलन जरिए आध्यात्मिक पुस्तक मेला कमेटी के अध्यक्ष डॉ. मुरली मनोहर शर्मा ने बताया कि आध्यात्मिकता के बिना मनुष्य का जीवन बेकार है। आध्यात्मिक मार्ग में चलने के लिए हमारे देश में जो धर्म ग्रंथ हैं, उन्हें पढ़ने की जरूरत है। शास्त्र, पुराण, गीता आदि हमारे मार्गदर्शक हैं। विशेष रूप से 16 सितंबर को पुस्तक मेले में उत्कलीय सभ्यता एवं श्रीजगन्नाथ संस्कृति विषय पर राज्य स्तरीय प्रतियोगिता आयोजित की जाएगी। इस मेले का मुख्य उद्देश्य ही है समाज में आध्यात्मिक जागरूकता लाना एवं सांस्कृतिक जागरण करना। समाज से सांस्कृतिक विघटन को रोकने के लिए यह आध्यात्मिक प्रयास आगे भी जारी रहेगा। पुस्तक मेले में भारतीय धर्म, दर्शन व सभ्यता के बारे में विभिन्न भाषा में पुस्तक उपलब्ध होंगी। इस मेले में हर दिन शाम के समय आध्यात्मिक ज्ञान प्रतियोगिता तथा आध्यात्मिक विषय पर परिचर्चा व सांस्कृतिक कार्यक्रम शाम 5 से 6 बजे तक आयोजित किए जाएंगे। इस मेले में कुल 55 पुस्तक प्रकाशक भाग लेंगे। इस अवसर ट्रस्ट के अध्यक्ष डॉ. भागीरथी बेहेरा, सचिव लक्ष्मी नारायण पटनायक एवं कार्यक्रम के संयोजक भवानी प्रसाद बलियार ¨सह प्रमुख उपस्थित थे।

Posted By: Jagran