भुवनेश्वर, जागरण संवाददाता। ओडिशा में नंदनकानन अभयारण्य घूमने आए पर्यटकों को अभयारण्य कर्मचारियों द्वारा दौड़ा-दौड़ा कर पीटे जाने की खबर है। कर्मचारियों के हमले में पांच पर्यटक घायल हो गए हैं। इस संबंध में मामला दर्ज होने के बाद पुलिस कुछ हमलावरों को हिरासत में लेकर पूछताछ कर रही है। छत्तीसगढ़ से 26 पर्यटक नंदनकानन अभयारण्य घूमने आए थे। इन पर्यटकों ने यहां नंदन-कानन सफारी में घूमने के लिए टिकट लिया, लेकिन तीन घंटे तक उन्हें सफारी से घुमाने की कोई व्यवस्था नहीं की गई। इस पर पर्यटकों ने हंगामा किया। इसके बाद अभयारण्य के कर्मचारियों ने 50 से अधिक स्थानीय लोगों को बुलाकर पर्यटकों की पिटाई करा दी। इस दौरान पर्यटकों को दौड़ा-दौड़ा कर पीटा गया। अभयारण्य कर्मियों के इस तरह के व्यवहार पर लोगों ने नाराजगी जाहिर की है। वहीं, पुलिस ने मामला दर्ज करते हुए कुछ हमलावरों को गिरफ्तार किया है।

जानें, क्या है मामला

नंदनकानन अभयारण्य में रविवार शाम को घूमने के लिए छत्तीसगढ़ से 26 पर्यटक व अभयारण्य के सफारी कर्मचारी के बीच मारपीट हुई। इस दौरान तीन पर्यटक तथा दो सफारी कर्मचारी घायल हो गए हैं। इस संबंध में दोनों तरफ से मामला दर्ज होने के बाद पुलिस घटना की छानबीन करते हुए दो सफारी कर्मचारियों को गिरफ्तर कर कोर्ट भेजा है। हालांकि इस संबंध में नंदनकानन थाना अधिकारी ने कहा कि पर्यटकों के पास टिकट नहीं थे, ऐसे में सफारी कर्मचारियों ने उन्हें टिकट लाने को कहा। इसके बाद ये पर्यटक टिकट काउंटर पहुंचे, मगर तब तक टिकट देने का समय समाप्त हो चुका था। ऐसे में इनके बीच टिकट काउंटर पर पहले कहासुनी व फिर मारपीट हुई है। दोनों तरफ से मामला दर्ज कर लिया गया है। मामले में दो कर्मचारियों को गिरफ्तार कर लिया गया है। पुलिस सच्चाई जानने के लिए अधिक छानबीन कर रही है। वहीं, छत्तीसगढ़ से आए पर्यटकों का कहना है कि हम नंदनकानन अभयारण्य घूमने आए थे। यहां पर नंदनकानन सफारी घूमने के लिए हमने टिकट लिया मगर तीन घंटे तक उन्हें सफारी घुमाने की कोई व्यवस्था नहीं की गई। पीछे से टिकट लेकर आ रहे लोगों को छोड़ा जा रहा था। इसका हमने विरोध किया। इसके बाद अभयारण्य के कर्मचारियों ने स्थानीय इलाके से 50 से अधिक लोगों को बुलाकर हम पर हमला बोल दिया। हमें दौड़ा-दौड़ाकर पीटने लगे। हमले में हमारे कई साथी घायल हो गए हैं। हमारे तीन साथियों को गहरी चोट लगी है, जिन्हें अस्पताल में भर्ती किया गया है। 

Edited By: Sachin Kumar Mishra