भुवनेश्वर, जागरण संवाददाता। 18 घंटे के सर्च आपरेशन के बाद स्पेशल आपरेशन ग्रुप (एसओजी) एवं डिस्ट्रिक्ट वैल्यूंटरी फोर्स (डीवीएफ) के जवान अपने कैंप में वापस लौट आए हैं। आपरेशन के समय मारे गए तीनों नक्सलियों का शव जब्त करने के साथ ही बंदूक एवं अन्य सामग्री को मालकानगिरी सदर महकमा में लेकर जवान पहुंचे।

गौरतलब है कि एक दिन पहले यानी मंगलवार सुबह 7 बजे मालकानगिरी जिले के तुलसी संरक्षित जंगल में नक्सलियों की गतिविधि के बारे में सूचना मिली और फिर एसओजी एवं डीवीएफ जवानों की तरफ से कांबिंग आपरेशन शुरू किया गया। जंगल के अन्दर नक्सलियों के साथ जवानों की मुठभेड़ हुई। दोनों तरफ से गोलीबारी हुई, जिसमें तीन नक्सली ढेर हो गए। इसमें दो महिला कैडर थी एवं एक पुरुष कैडर था। ये तीनों आन्ध्र, ओडिशा बार्डर स्पेशल जोनल कमेटी के मिलीटारी प्लाटून में काम कर रहे थे। सर्च आपरेशन के बाद जंगल से दो बंदूक जब्त हुआ था। इसके अलावा जंगल में चल रहे इस अभियान के दौरान जवानों को भारी मात्रा में नक्सल सामग्री भी जब्त की गई है

यहां उल्लेखनीय है कि नक्सल आपरेशन की समीक्षा करने के लिए पुलिस डीजी अभय खुद मालकानगिरी जिले के दौरे पर आज पहुंचे हैं। पुलिस डीजी के साथ दक्षिण-पश्चिमांचल डीआईजी भी शामिल हैं। नक्सली गतिविधि को खत्म करने के लिए बैठक में रणनीति तैयार की जा सकती है।

Edited By: Babita Kashyap