भुवनेश्वर, जागरण संवाददाता। देश के चारों धामों में से एक श्रीक्षेत्र धाम पुरी में महाप्रभु श्रीजगन्नाथ जी मंदिर के तीन द्वार ( जय विजय द्वार, कलाहाट द्वार एवं बेहरण द्वार) पर चांदी की परत चढ़ाई जाएगी। एक भक्त से इसके लिए जरूरी चांदी एवं अन्य खर्च करने की बात पहले ही पता चली थी, अब और पांच द्वार में चांदी की परत लगाए जाने की बात पता चली है। उपरोक्त तीन द्वार के साथ ही सातपाहाच द्वार, पश्चिम भोगमंडप द्वार, नृसिंह मंदिर, मां विमला एवं मां महालक्ष्मी मंदिर के गर्भ द्वार में चांदी की परत लगाए जाने की बात पता चली है। 

जानकारी के मुताबिक इसके लिए श्रीमंदिर प्रशासन की तरफ से 15 सदस्यीय कमेटी का गठन किया गया है। कमेटी की पहली बैठक 27 अक्टूबर को निलाद्री भक्त निवास में होगी। इसमें मुंबई के चांदी कारीगर भी भाग लेंगे और अपने डिजाइन के बारे में जानकारी देंगे। विस्तृत रूप से इस पर चर्चा होने के बाद डिजाइन को अंतिम रूप दिया जाएगा। उसी तरह से चांदी रखने के लिए स्ट्रांग रूम, कारीगर के रहने की व्यवस्था करने, सीसीटीवी कैमरा लगाने आदि के संदर्भ में बैठक में चर्चा की जाएगी। महाप्रभु को दान देने के लिए भक्तों में विशेष आग्रह देखा जा रहा है।

पहले से तीन द्वार में चांदी की परत लगाने के लिए एक भक्त ने इच्छा प्रकट की थी। उसी तरह से एक भक्त 

ने महाप्रभु के आभूषण के लिए सोने का दान देने की बात कहने के बाद बुधवार को बैठक कर इसकी डिजाइन को अनुमोदन किया गया है। बहुत जल्द महाप्रभु के श्रीमुख पद्म, झोबाकंठी तथा तड़गी निर्माण की जाएगी। इसके साथ ही पुन: 5 द्वार में चांदी की परत के लिए एक दानदाता सभी खर्च वहन करने की बात कही है। पहले ही तीन दरवाजे में चांदी की परत लगाने के लिए जिस भक्त ने आग्रह प्रकाशित किया था वही भक्त अब और 5 द्वार में चांदी की परत लगाने के लिए इच्छा प्रकट करने की बात असमर्थित सूत्रों से पता चली है। मिली जानकारी के मुताबिक अब आठ द्वार को नए सिरे से बनाया जाएगा। इसके बाद इन आठों द्वार में चांदी की परत लगाई जाएगी। इसमें करीबन ढाई टन चांदी लगेगी। कमेटी की बैठक के बाद नीलाद्री भक्त निवास परिसर में दरवाजा बनाया जाएगा। दरवाजा तैयार होने के बाद उसमें चांदी की परत लगाए जाने की सूचना मिली है।

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस