भुवनेश्वर, जेएनएन। विवाह के लिए सभी प्रकार की तैयारी पूरी कर ली गई, मंडप को सजा दिया गया। सगे-संबंधियों ने भी पहुंचकर खान पान करने के साथ लड़की को आशीर्वाद भी दिया। पुरोहित ने भी विवाह के लिए सभी प्रकार की तैयारी खत्म कर ली थी किंतु विवाह का मुहूर्त निकलता गया और दूल्हा या बारात मंडप में नहीं पहुंची। यहां तक कि दूल्हे का मोबाइल फोन भी बंद हो गया था। लड़की के परिवार वाले चिंता में पड़ गए। 

इसकी सूचना ओडिशा नारी जागरूक मंच के पास पहुंची। मंच के सदस्यों ने इसमें पुलिस की मदद से दूल्हे को खोज निकाला। कड़ी मशक्कत के बाद दूल्हे को जाजपुर से लाकर विवाह सम्पन्न कराया गया। यह रोचक घटना राजधानी भुवनेश्वर स्थित बडग़ड़ थाना जगन्नाथ मंदिर मंडप में घटी है। 

मिली सूचना के मुताबिक पोखरीपुट में रहने वाला एक युवक पिछले चार साल से झारपड़ा की एक युवती से प्रेम करता था। युवक जाजपुर केएक निजी संस्थान में काम नौकरी करता है। दोनों एक दूसरे से प्रेम करने के बाद पिछले 14 जनवरी को कोर्ट में शादी भी कर ली थी। इसकेबाद वैदिक रीति से विवाह करने के लिए दोनों के परिवार तैयार हो गए और शादी कहां होगी उसके लिए स्थान और समय भी निश्चित कर लिया। 

इसी के आधार पर लड़की के परिवार वालों ने विवाह की सभी प्रकार की तैयारी की थी। किन्तु लड़की के दूसरी जाति के होने से अंतिम क्षण में लड़के के परिवार वालों ने शादी से मनाकर दिया। लड़के ने अपना मोबाइल फोन भी बंद कर दिया और जाजपुर में जाकर छिप गया। 

लड़की के परिवार वाले निराश होकर ओडिशा नारी जागरूक मंच के अध्यक्ष डली रथ से मुलाकात कर चर्चा की। इस संदर्भ में लक्ष्मीसागर थाना में शिकायत भी की गई। थाना अधिकारी ने युवकके मोबाइल फोन के लोकेशन को ट्रेस करने के बाद महिला नेत्री रथ एवं मंच के अन्य सदस्य रात में जाजपुर पहुंचे और युवक को पकड़कर भुवनेश्वर लाकर उसकी शादी करवायी और लड़की का परिवार जगहंसाई से बच गया। इसके लिए लड़की के परिवार वालों ने ओडिशा नार जागरूकमंच के प्रति आभार प्रकट किया है।

शिक्षकों के लिए बेहतर अवसर, सरकारी स्कूल में निकलने वाली है सात हजार वैकेंसी

 

Posted By: Babita kashyap

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस