जासं, भुवनेश्वर : ई-गवर्नेंस के क्षेत्र में ओडिशा देश का एक अग्रणी राज्य है। जमीन के रिकॉर्ड से लेकर आपदा संचालन, शिक्षा, पुलिस, शिकायत समाधान एवं अन्य कई क्षेत्र में लोगों को ई-गवर्नेंस के जरिए सेवा दी जा रही है। देश में ओडिशा ही एक ऐसा राज्य है जहां पर आइटी एवं नई चिता धारा का उपयोग कर शासन प्रक्रिया में सुधार लाया गया है। यदि आवश्यकता नहीं है तो यहां लोगों को विभिन्न सेवा के लिए सरकारी कार्यालयों का चक्कर नहीं लगाना पड़ता। इंटरनेट के जरिए हर हाथ को जनसेवा उपलब्ध की गई है। राज्य सरकार की मदद से ओडिशा में पहली बार आयोजित इंडियन एक्सप्रेस टेक्नोलॉजी सभा के 27वें संस्करण में शामिल मुख्यमंत्री नवीन पटनायक ने उपरोक्त बातें कहीं।

मुूख्यमंत्री ने कहा कि राज्य सरकार 5टी को महत्व दे रही है। हर क्षेत्र में हम उत्तम प्रयुक्ति प्रयोग करने का लक्ष्य रखे हैं। आपदा से निपटने के लिए एक नया मानदंड स्थापित करने के साथ ओडिशा 2018 स्टार्टअप रैंकिंग में श्रेष्ठ प्रदर्शन करने वाला राज्य बना है। फिक्की इंडिया स्पो‌र्ट्स अवार्ड में खेल को प्रोत्साहन देने वाला सर्वश्रेष्ठ राज्य ओडिशा को चुना गया है। पूर्वी भारत में ओडिशा एकमात्र ऐसा राज्य है जहां देश के प्रमुख 5टी आइटी कंपनी जैसे इंफोसिस, टीसीएस, विप्रो, टेक महिद्रा व माइंड-ट्री अपने केंद्र खोले हुए हैं। इस साल ओडिशा का आइटी निर्यात चार हजार करोड़ रुपये को पार गया है, इससे भारत के आइटी मानचित्र में ओडिशा को एक प्रमुख स्थान प्राप्त हुआ है। मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रयुक्ति के क्षेत्र में ओडिशा को एक अग्रणी राज्य में तब्दील करने के लिए सरकार ने हर संभव कदम उठाया है और जो भी जरूरत होगी उसे उठाने के लिए तैयार है। इस अवसर पर राज्य आइटी इलेक्ट्रॉनिक्स मंत्री तुषार कांति बेहरा, एसटीपीआइ डीजी डॉ. ओमकार राय, आइटी सचिव मनोज मिश्र प्रमुख ने भी अपने-अपने विचार रखे।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस