संसू, भुवनेश्वर : बहुचर्चित स्मिता रानी हत्याकांड मामले में सुर्खियों में रहे सरपंच मधुस्मिता भद्र के दो मंजिला गेस्ट हाउस (रंगशाला) को जमींदोज कर दिया गया। जाजपुर जिलाधीश के निर्देश पर प्रशासन की ओर से दो बुलडोजर एवं जेसीबी मशीन लगाकर गेस्ट हाउस को तोड़ा गया। इस क्षेत्र में तीन प्लाटून पुलिस बल तैनात किया गया था। घटनास्थल पर अतिरिक्त जिलाधीश मिहिर प्रसाद महांती, उपजिलाधीश नारायण चंद्रधल, धर्मशाला के अतिरिक्त तहसीलदार देवी प्रसन्न महाती, शीतल अग्रवाल, रसूलपुर तहसीलदार ज्योतिकांत भुजबल सहित विधि व्यवस्था बनाए रखने कलिगनगर के अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक राजकिशोर दोरा एवं भवानी शंकर पटनायक मुस्तैद थे। इससे पूर्व कुछ स्थानीय जनप्रतिनिधियों ने इसका पुरजोर विरोध किया था। इसे लेकर प्रशासन द्वारा राज्य सरकार से अनुमति मांगी थी। अनुमति मिलने के बाद इस विवादित गेस्ट हाउस को ढहा दिया गया।

उल्लेखनीय है कि हरिदासपुर पीइओ स्मिता रानी विश्वाल की हत्या को लेकर यह विवादित गेस्ट हाउस चर्चा में था। सरपंच मधुस्मिता भद्र के पति रुपेश भद्र इस कांड में मुख्य आरोपित हैं जो फिलहाल जेल में बंद हैं। यह मामला सियासी रंग ले चुका है और शासक बीजद के खिलाफ विपक्षी दल इस मुद्दे पर लामबंद हैं।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस