भुवनेश्वर, शेषनाथ राय। शहर से लेकर ग्रामीण क्षेत्र में अब अधिकांश संख्या में लोग दातुन करने के बदले मंजन एवं ब्रस का प्रयोग कर रहे हैं। इससे शहरों में दातुन बेचकर अपना जीवन यापन करने वाले कुछ लोगों की रोजी रोटी भी अब खतरे में पड़ गई है। ऐसे में बालेश्वर दौरे पर गई भुवनेश्वर लोकसभा की सांसद अपराजिता षडंगी ने न सिर्फ फुटपाथ पर दातुन बेच रहे व्यक्ति से दातुन खरीदा बल्कि समाज को यह संदेश देने का भी प्रयास किया है कि हमें ही हमारी परंपराओं को बचाने के साथ अपने लोगों का ख्याल रखना है।

जानकारी के मुताबिक भुवनेश्वर की सांसद अपराजिता षडंगी बालेश्वर जिला के काप्तीपदा के बाघा जतिन के शहीद दिवस में शामिल होने केलिए बालेश्वर पहुंची थी। डाक बंगला परिसर से भाजपा कार्यकर्ताओं से मुलाकात करने के बाद उनके साथ वह पैदल ही चल दी। नीलगिरी होते हुए वह एक किमी. तक पैदल चलकर पार्टी आफिस पहुंची। रास्ते में जाते समय बाजार चौराहे पर साप्ताहिक दुकान लगी हुई थी। इस दौरान उन्होंने इन अस्थाई दुकानदारों से मिली और उनके साथ चर्चा की।

इसके साथ ही जंगल से शाल पत्र की दातुन लाकर अपना जीवन यापन करने वाले कुछ लोगों से मुलाकात की और उनके पास से 5 बंडल दातुन खरीद लिया। इसके बाद वह पार्टी आॅफिस चली गई। सांसद अपराजिता षडंगी के इस तरह से लोगों मिलने एवं उनके साथ चर्चा करने तथा दातुन खरीदने की बात सामने आते ही अब चारों तरफ उनके इस कदम की सराहना हो रही है। 

किडनी प्रत्यारोपण के मामले में घिरा अपोलो अस्पताल, लाइसेंस रद करने का आदे

यहां उल्लेखनीय है कि राजनीति में कदम रखने के बाद दैनिक जागरण से बात करते हुए पूर्व आइएएस अपराजिता षंडगी ने कहा था कि वह राजनीति में राजनीति करने के लिए नहीं बल्कि बड़े पैमाने पर लोगों की सेवा करने के उद्देश्य से हमने राजनीति क्षेत्र को चुना है। वह चुनाव जीतने से पहले और आज भी जिस कदर लोगों के सुख दुख में खड़ी हो रही हैं, इससे उनकी चर्चा आज न सिर्फ भुवनेश्वर बल्कि पूरे प्रदेश में होने लगी है।

ओडिशा की अन्य खबरें पढऩे के लिए यहां क्लिक करें

 

Posted By: Babita kashyap

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप