बालेश्वर, जेएनएन। मुख्यमंत्री नवीन पटनायक ने सोमवार जिले के रेमणा गोलाई स्थित फकीर मोहन मेडिकल कॉलेज एवं अस्पताल का उद्घाटन किया। इस मौके पर केंद्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री अश्विनी कुमार चौबे, बालेश्वर के सांसद रवींद्र कुमार जेना, राज्य के उच्च शिक्षा मंत्री अनंत दास, स्वास्थ्य मंत्री प्रताप जेना, राज्य बीजद युवा उपाध्यक्ष सत्यरंजन दास के साथ जिले के सभी विधायक एवं वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित थे।

मुख्यमंत्री ने यहां सुबह 11:30 बजे पहुंचने के बाद मेडिकल कॉलेज परिसर में बने फकीर मोहन सेनापति की मूर्ति का माल्यार्पण किया। इसके बाद उन्होंने मेडिकल कॉलेज का विधिवत उद्घाटन किया। साथ ही इस मेडिकल कॉलेज के प्रथम बैच के छात्रों, उनके अभिभावकों व शिक्षकों के साथ मुलाकात करते हुए विचार विमर्श किया। इस दौरान मेडिकल कॉलेज के प्राचार्य प्रो. प्रताप कुमार रथ भी उनके साथ थे।

इस मौके पर केंद्रीय मंत्री अश्विनी चौबे ने कहा कि केंद्र सरकार ने ओडिशा में पांच नए मेडिकल कॉलेज बनाने की स्वीकृति दी है। इनमें से चार बन गए हैं जबकि एक का निर्माण होना अभी बाकी है। उन्होंने कहा कि इसके लिए केंद्र सरकार 60 फीसद एवं राज्य सरकार 40 फीसद खर्च उठा रही है। उन्होंने कहा कि जिस तरह जन्माष्टमी के दिन श्रीकृष्ण का जन्म हुआ और दुनिया से अंधेरा छटा था ठीक उसी तरह बालेश्वरवासी भी इस मेडिकल कॉलेज के खुल जाने से अंधेरे से उजाले की ओर आ गए हैं।

केंद्रीय मंत्री ने विभिन्न मेडिकल कॉलेजों के लिए राज्य सरकार द्वारा जमीन मुहैया कराए जाने से राज्य सरकार को धन्यवाद दिया। इस अवसर पर मुख्यमंत्री नवीन पटनायक ने कहा कि आम जनता की बुनियादी सेवा के लिए राज्य सरकार बचनवद्ध है। उन्होंने आम जनता से संबंधित कई योजनाओं का भी जिक्र किया। आने वाले दिनों में राज्य सरकार स्वास्थ्य सेवा को और सरल बनाया जाएगा।

यहां उल्लेखनीय है कि इस मेडिकल कॉलेज के निर्माण में कुल 205 करोड़ खर्च हुए हैं, जिसमें से 60 फीसद केंद्र एवं 40 फीसद राज्य सरकार ने खर्च किया है। इस साल यहां मेडिकल कॉलेज में कुल 99 छात्रों ने दाखिला लिया है, जिसमें 56 लड़के एवं 40 लड़किया हैं। इस मेडिकल कॉलेज के खुल जाने से पड़ोसी राज्य पश्चिम बंगाल समेत पड़ोसी जिला भद्रक एवं केंदुझर के लोगों को काफी लाभ मिलेगा।