इस्लामाबाद (कमल कान्त वर्मा)। पाकिस्तान के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार सरताज अजीज ने प्रेस कांफ्रेंस में एनएसए की बैठक पर बोलते हुए भारत के पाले में गेंद डालने की कोशिश की है। उन्होंने कहा कि पाकिस्तान ने बातचीत रद नहीं की है जबकि भारत अपने ही किए फैसले से पीछे हट रहा है। भारत इससे पहले भी दोनों देशों के बीच वार्ता को रद कर चुका है। यदि ऐसा दोबारा होता है तो यह बेहद दुर्भाग्यपूर्ण होगा। उन्होंने पीएम नरेंद्र मोदी से अपील की कि वह उफा समिट के दौरान हुई सहमति पर कायम रहें। साथ ही बातचीत की प्रक्रिया भी जारी रखें।

एनएसए स्तर पर पाकिस्तान का रूख साफ करते हुए सरताज अजीज ने कहा कि कश्मीर का मुद्दा उनके एजेंडे में हर बार रहेगा। इससे पीछे हटने का कोई सवाल ही नहीं उठता। इसके बिना किसी वार्ता का कोई औचित्य नहीं है। सरताज अजीज ने आरोप लगाया कि इतिहास के नाम पर पाकिस्तान को दबाने की कोशिश की जा रही है।

भारतीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर हमला करते हुए उन्होंने कहा कि वह अपनी शर्तों पर ही पाकिस्तान से रिश्ता कायम रखना चाहता हैं, वह अपनी शर्तों पर बातचीत करना चाहते हैं। उन्होंने एक बार फिर से कश्मीर में जनमत संग्रह करवाने का मुद्दा भी प्रेस कांफ्रेंस के दौरान उठाया।

उन्होंने कहा कि पाकिस्तान भारत के साथ सभी विवादित मुद्दों पर बातचीत करने का इच्छुक है। उन्होंने भारत पर आरोप लगाया कि वह पाकिस्तान पर उफा समिट के एजेंडे से हटने का गलत आरोप मढ़ रहा है। पाकिस्तान इस एजेंडे से पीछे नहीं हट रहा है।

उन्होंने एनएसए की बैठक में पाकिस्तान द्वारा भारत के खिलाफ डोजियर सोंपने की बात भी कही है। सरताज अजीज ने कहा कि पाकिस्तान यूएन में भी भारत के खिलाफ डोजियर देगा। हालांकि उन्होंने इस प्रेस कांफ्रेंस में डोजियर की जानकारी नहीं दी। उन्होंने कहा कि वह भारत के खिलाफ तीन डोजियर लेकर वहां जा रहे हैं। वार्ता रद होने की सूरत में वह यह डोजियर यूएन को सौंपेंगे। उन्होंने भारत पर आरोप लगाया कि पाकिस्तान दोनों देशों के बीच तनाव कम करना चाहता है जबकि भारत इसको बढ़ा रहा है।

उन्होंने हुर्रियत नेताओं की गिरफ्तारी पर कहा कि वह इस खबर से बेहद हैरान हैं। अजीज ने कहा कि पाकिस्तान करीब 15-20 वर्षों से हुर्रियत नेताओं से मिलता रहा है। उन्होंने इसको सामान्य प्रक्रिया करार दिया है। उन्होंने कहा कि पाकिस्तान इस बैठक में बिना हिस्सा लेने के लिए वह बिना शर्त भारत जाने को तैयार है। उन्होंने भारत पर उफा समिट के एजेंडे से पीछे हटने का भी आरोप लगाया। पाकिस्तान के एनएसए का कहना था कि भारत ने इस बैठक के लिए हमारे ऊपर शर्त लगाई है। उन्होंने बातचीत की प्रक्रिया जारी रखने की अपील की है।

पढ़ें: एनएसए पर कांग्रेस की सरकार को घेरने की कोशिश

राजनाथ ने किया साफ, आतंकवाद पर ही होगी एनएसए में वार्ता

Posted By: Kamal Verma

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस