इस्लामाबाद/नई दिल्ली। राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकारों (एनएसए) की बैठक रद्द होने के बाद भारत व पाक के रिश्तों में कड़वाहट बढ़ती जा रही है। इसका ताजा उदाहरण देखने को मिला है पाकिस्तानी एनएसए सरताज अजीज द्वारा खुलेआम भारत को धमकाने से।
पाकिस्तानी अखबार 'द डॉन' में छपी खबर के अनुसार, सरताज अजीज ने भारत को धमकाते हुए कहा है कि मोदी सरकार पाक के साथ ऐसा बर्ताव कर रही है, जैसे वह क्षेत्रीय महाशक्ति हो, लेकिन हम खुद परमाणु (एटम) सैन्य देश हैं। हम जानते हैं कि अपनी रक्षा खुद कैसे करनी है।
इसके साथ ही अजीज ने भारत पर पाक में आतंकवाद को बढ़ावा देने का आरोप लगाते हुए कहा कि उनके पास भारतीय खुफिया एजेंसी रॉ के इसमें शामिल होने के पक्के सबूत हैं। उन्होंने भारत पर पाक के खिलाफ केवल दुष्प्रचार करने का आरोप लगाया है। पाक पीएम नवाज शरीफ के सलाहकार सरताज अजीज ने कहा, 'हमें सबूत देने के बदले भारत का काम केवल दुष्प्रचार करना रह गया है।'

ये भी पढ़ेंः भारत की सख्ती पर दाऊद को कराची से मूरी शिफ्ट किया
नवाज शरीफ के विशेष सलाहकार सरताज अजीज ने कहा कि भले ही एनएसए लेवल की मीटिंग नहीं हुई हो, लेकिन बाकी मीटिंग्स होंगी। उन्होंने कहा, 'रेंजर्स व बीएसएफ के बीच मीटिंग होगी। डीजीएमओ भी मिलेंगे ताकि तनाव कम करने को लेकर कोई मैकेनिज्म बनाया जा सके। पाकिस्तानी रेंजर्स-बीएसएफ के बीच 6 सितंबर को होनी है। डायरेक्टर्स जनरल ऑफ मिलिट्री ऑपरेशन (डीजीएमओ) भी जहां चाहेंगे मिल सकेंगे।'
इसके साथ ही अजीज ने कहा, 'भारत सामान्य हालात के लिए खुद की शर्त रख रहा है। वे ट्रेड और अन्य मुद्दों को लेकर बातचीत तो करना चाहते हैं, लेकिन बहुत ही कम। अगर भारत के लिए कश्मीर कोई मुद्दा ही नहीं है तो वहां उन्होंने 700000 जवान क्यों तैनात कर रखे हैं।'

उधर, अजीज के बयान पर प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए पूर्व गृह सचिव व भाजपा सांसद आरके सिंह ने कहा कि पाकिस्तान यह समझना चाहिए कि परमाणु बम कोई खिलौना नहीं है। सरताज अजीज गैरजिम्मेदाराना बयान दे रहे हैं, जो बेहद गंभीर है।
ये भी पढ़ेंः पाक रक्षा मंत्री ने मोदी सरकार के कट्टरपंथी दृष्टिकोण को जिम्मेदार ठहराया

Posted By: anand raj