वाशिंगटन। अमेरिका पांच वर्षीय योजना के तहत पाकिस्तान को आतंकवाद से मुकाबले और जवाबी कार्रवाई की क्षमताओं के विकास में मदद करने के लिए सुरक्षा सहायता मुहैया कराएगा।

पढ़ें: मुशर्रफ के खिलाफ चलेगा राष्ट्रद्रोह का मामला

हाल में ही पाकिस्तान के प्रधानमंत्री नवाज शरीफ की वाशिंगटन यात्रा के दौरान दोनों देशों के द्विपक्षीय संबंधों में आई नई ताजगी के बाद एक शीर्ष स्तरीय रक्षा प्रतिनिधिमंडल इस सप्ताह के आखिर में रक्षा सलाहकार समूह की दूसरे दौर की महत्वूपर्ण वार्ता के लिए पेंटागन जाएगा। इस दौरान अमेरिकी पाकिस्तान रक्षा सलाहकार समूह की बैठक में पांच वर्षीय सुरक्षा सहायता योजना को अंतिम रूप दिया जाएगा। इस योजना की रूपरेखा को गत फरवरी में दोनों देशों के रक्षा अधिकारियों के बीच हुई बैठक में तैयार किया गया था। माना जाता है कि इसमें उन रक्षा उपकरणों की बात की गई जिसे पाकिस्तान को अमेरिका उपलब्ध कराएगा।

जानकार सूत्रों ने बताया कि दिसंबर, 2012 और इस वर्ष फरवरी में हुई बैठकों के बाद अमेरिकी और पाकिस्तानी रक्षा अधिकारी इस पांच वर्षीय संयुक्त योजना को विकसित करने में सफल हुए। इन दो बैठकों में दोनों देशों के अधिकारियों ने सुरक्षा सहायता सहयोग के सात क्षेत्रों की पहचान की थी। हालांकि शुरुआत में सुरक्षा से संबंधित 11 क्षेत्रों पर चर्चा हुई थी। इसी फैसले के तहत ओबामा प्रशासन ने इस गर्मी (जुलाई-अगस्त) में कांग्रेस (अमेरिकी संसद) को सूचित किया था कि वह किन मदों में पाकिस्तान को सुरक्षा सहायता मुहैया कराएगा। इस रक्षा सहायता की कुल राशि 140 करोड़ डॉलर (करीब 8720 करोड़ रुपये) की होगी।

मोबाइल पर ताजा खबरें, फोटो, वीडियो व लाइव स्कोर देखने के लिए जाएं m.jagran.com पर

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट