लंदन। ब्रिटेन के विश्वविद्यालयों में विज्ञान, प्रौद्योगिकी, इंजीनियरिंग और गणित (स्टेम) कोर्स में दाखिला लेने वाले भारतीय छात्रों की संख्या में इस वर्ष कमी आई है। इस पर कुछ विश्वविद्यालयों ने चिंता जाहिर की है।

विश्वविद्यालयों की ओर से जारी रिपोर्ट के मुताबिक इसी महीने प्रारंभ होने वाले आगामी सत्र में भारतीय छात्रों की संख्या में 20 से 30 प्रतिशत तक कमी आई है। स्टेम कोर्स भारतीय छात्रों के बीच बहुत लोकप्रिय रहा है। उनकी संख्या में कमी आने से इस कोर्स के भविष्य को लेकर चिंता खड़ी हो गई है। संसद की एक समिति के समक्ष उच्चतर शिक्षा और उद्योगों से जुड़े वरिष्ठ लोगों ने भारतीय छात्रों की कम संख्या का स्टेम कोर्स की वित्तीय व्यवहार्यता पर पड़ने वाले प्रभाव को लेकर विश्वविद्यालयों के कुलपतियों की चिंता के बारे में बताया।

पिछले सप्ताह 'ओवरसीज स्टूडेंट्स एंड नेट माइग्रेशन' पर रिपोर्ट जारी करने वाली समिति ने अनुशंसा की है कि भारतीय और अन्य गैर यूरोपीय संघ के छात्रों को प्रवास के आंकड़ों से अलग किया जाए क्योंकि उनमें से अधिकांश कोर्स पूरा करने के बाद अपने देश लौट जाते हैं। हालांकि सरकार ने इस अनुशंसा को अस्वीकार कर दिया है। सरकार यूरोपीय संघ से बाहर के देशों से प्रवास कम करने को उत्सुक है। विश्वविद्यालयों की मुख्य कार्यकारी निकोला डैनड्रिज ने समिति को बताया कि भारतीय छात्रों की कम संख्या से भविष्य में विश्वविद्यालयों में विभागों के बंद होने के बारे में कोई निष्कर्ष निकालना जल्दबाजी होगी, लेकिन यह प्रवृत्ति ठीक नहीं है।

मोबाइल पर ताजा खबरें, फोटो, वीडियो व लाइव स्कोर देखने के लिए जाएं m.jagran.com पर

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस