पेशावर। एक पाकिस्तानी न्यायिक अधिकारी ने गुरुवार को डॉक्टर शकील आफरीदी को सुनाई गई 33 साल जेल की सजा के विरुद्ध निर्णय दिया है। साथ ही मामले में नए सिरे से मुकदमा चलाने का आदेश भी दिया है। फरीदी ने ओसामा बिन लादेन का पता लगाने में अमेरिकी खुफिया एजेंसी सीआइए की मदद की थी। 2011 में अमेरिकी कार्रवाई में ओसामा मारा गया था।

न्यायिक अधिकारी साहिबजादा मुहम्मद अनीस ने कहा कि पिछले वर्ष आफरीदी के खिलाफ फैसला सुनाने वाले कबायली क्षेत्र के जज ने अपने अधिकार क्षेत्र का उल्लंघन किया है। उन्होंने आफरीदी के मामले को खैबर एजेंसी के राजनीतिक एजेंट को सौंप दिया है। आफरीदी को पिछले वर्ष 24 मई को प्रतिबंधित आतंकी संगठन लश्कर-ए-इस्लाम की मदद करने के आरोप में 33 साल के जेल की सजा सुनाई गई थी। पाकिस्तानी डॉक्टर आफरीदी पर ओसामा का पता लगाने के प्रयास के तहत सीआइए की ओर से एबटाबाद में नकली टीकाकरण अभियान चलाने का भी आरोप था। अर्ध स्वायत्त क्षेत्र खैबर एजेंसी में एक कबायली अदालत ने उन्हें सजा सुनाई थी। वह इस समय पेशावर सेंट्रल जेल में हैं। कानूनी विशेषज्ञों, मानवाधिकार कार्यकर्ताओं ने फैसले को चुनौती दी थी। अमेरिका आफरीदी को रिहा करने के लिए पाकिस्तान पर दबाव डाल रहा है।

मोबाइल पर ताजा खबरें, फोटो, वीडियो व लाइव स्कोर देखने के लिए जाएं m.jagran.com पर

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप