इस्लामाबाद, आइएएनएस : महत्वाकांक्षी तुर्कमेनिस्तान-अफगानिस्तान-पाकिस्तान-भारत (तापी) गैस पाइप लाइन परियोजना हकीकत बनने के करीब पहुंच रही है। अफगानिस्तान के बाद पाकिस्तान में शुक्रवार को गैस पाइप लाइन निर्माण की शुरुआती प्रक्रिया का औपचारिक उद्घाटन किया गया। अस्तित्व में आने के बाद इसके जरिये प्रतिदिन 3.2 अरब घन फीट गैस की आपूर्ति की जा सकेगी।

पाकिस्तान के पेट्रोलियम मंत्री शाहिद खकान अब्बासी ने शुक्रवार को फ्रंट-एंड-इंजीनियरिंग-ऐंड-डिजाइन रूट सर्वे को प्रारंभ करते हुए तापी परियोजना को देश के लिए जरूरी बताया। उन्होंने बताया कि 56 इंच व्यास वाले 1,680 किलोमीटर लंबी पाइपलाइन पर पिछले सप्ताह अफगानिस्तान ने औपचारिक तौर पर काम शुरू किया था।

अब्बासी ने परियोजना के समय पर और पूर्व निर्धारित लागत पर पूरा होने का विश्वास जताया है। इससे अफगानिस्तान, पाकिस्तान और भारत की ऊर्जा जरूरतें पूरी होंगी। उन्होंने परियोजना को अत्यंत महत्वपूर्ण बताते हुए कहा कि पाकिस्तान को गैस की सख्त जरूरत है। फिलहाल एलएनजी का आयात कर इस जरूरत को पूरा किया जा रहा है। इस परियोजना को 2020 तक पूरा करने का लक्ष्य रखा गया है।

यह भी पढ़ें: तापी गैस प्रोजेक्‍ट को लेकर तुर्कमेनिस्‍तान और अफगानिस्‍तान में हुई बातचीत

Posted By: Rajesh Kumar