सियोल। दक्षिण कोरिया में बुधवार सुबह एक बहुमंजिला जहाज दक्षिणी पश्चिमी समुद्री तट के करीब डूब गया। इस हादसे में छह लोगों की मौत हो गई जबकि 290 यात्री लापता हैं। सरकार ने 55 लोगों के घायल होने की पुष्टि कर दी है। जहाज पर 459 लोग सवार थे। इनमें से ज्यादातर हाईस्कूल के छात्र थे, जो एक द्वीप पर छुट्टी मनाने जा रहे थे। बचाव कार्य में नौसेना गोताखोरों सहित बचाव टीमें जुटी हुई हैं।

यह 1993 के बाद दक्षिण कोरिया में सबसे बड़ी नौका दुर्घटना है। लगभग 31 साल पहले हुई उस दुर्घटना में 292 लोगों की मौत हुई थी। सियोल में पत्रकारों को सुरक्षा और लोक प्रशासन उपमंत्री ली ग्योंग ओग ने बताया कि 292 लोगों का अभी तक कुछ पता नहीं चल पाया है। इस नाव पर 325 छात्र, 15 अध्यापकों के अलावा 89 अन्य लोग सवार थे। पहले सरकार ने घोषणा की थी कि 368 लोगों को बचाया जा चुका है, लेकिन बाद में केवल 164 लोगों को सुरक्षित लाने की पुष्टि की गई। अब इस बात की आशंका जताई जा रही है कि मृतकों की संख्या काफी बढ़ सकती है। अधिकारियों को अंदेशा है कि इनमें ज्यादातर लोग जहाज में फंसे हो सकते हैं। टेलीविजन के फुटेज में खौफजदा यात्री जीवन रक्षक जैकेट पहने बचाव नौकाओं पर चढ़ने के लिए संघर्ष करते दिखे। इन्हें नजदीकी जिंदो द्वीप पर ले जाया गया है। सरकार ने 160 कोस्ट गार्ड और नौसेना के गोताखोरों की टीम खोज अभियान में लगाई है। सरकार ने बताया कि इस छोटे जहाज की क्षमता 921 लोगों की थी। चूंकि इस इलाके में पानी काफी ठंडा है। इसलिए दो घंटे से ज्यादा पानी में रहने पर लोगों को हाइपोथर्मिया भी हो सकता है।

पढ़ें: भारत-चीन ने मजबूत रिश्ते की प्रतिबद्धता जताई

पढ़ें: विवादों पर आम राय बनाने की ओर भारत-चीन