बैंकाक (रायटर)। म्यांमार की सेना के खिलाफ जंग छेड़ने वाले रोहिंग्या आतंकवादियों ने एक महीने के लिए एकतरफा संघर्ष विराम की घोषणा की है। अराकान रोहिंग्या साल्वेशन आर्मी (एआरएसए) का यह संघर्ष विराम रविवार से लागू होगा।

आतंकी संगठन ने म्यांमार के हिंसाग्रस्त प्रांत रखाइन में सहायता समूहों द्वारा रोहिंग्या मुसलमानों को मदद पहुंचाने के लिए यह कदम उठाया है। ध्यान रहे कि 25 अगस्त को एआरएसए आतंकवादियों द्वारा तीस पुलिस चौकियों और एक सैन्य ठिकाने पर हमला करने के बाद म्यामांर की सेना ने दहशतगर्दो के खिलाफ जोरदार अभियान चला रखा है।

इसके चलते करीब तीन लाख रोहिंग्या मुसलमानों ने म्यांमार के रखाइन प्रांत से भागकर पड़ोसी देश बांग्लादेश में शरण ले रखी है। रखाइन के विभिन्न हिस्सों में भी करीब तीस हजार रोहिंग्या बेघर हो गए हैं। एआरएसए की ओर से शनिवार को जानकारी बयान में संघर्ष विराम की घोषणा की गई है।

यह भी पढ़ें: पिछले दो सप्‍ताह में जान बचाकर बांग्‍लादेश पहुंचे 290,000 रोहिंग्‍या: UN

यह भी पढ़ें: उत्तर-पश्चिम म्यांमार में रोहिंग्याओं के आठ गांव जलकर खाक

Posted By: Kishor Joshi

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप