वाशिंगटन, प्रेट्र। वो दिन दूर नहीं, जब आंखों में लगाया जाने वाला कॉन्टेक्ट लेंस आपकी सेहत का हाल भी बता देगा। भारतीय समेत शोधकर्ताओं के एक दल ने शरीर में प्रत्यारोपित किए जाने वाले उपकरणों को स्मार्टफोन से जोड़ने का तरीका ईजाद किया है। इंटरस्केटर नाम की इस तकनीक में ब्लूटूथ सिग्नल को वाईफाई सिग्नल में बदला जाता है।

अमेरिका की यूनिवर्सिटी ऑफ वाशिंगटन के विक्रम अय्यर ने कहा, 'प्रत्यारोपित किए गए उपकरणों के बीच कनेक्टिविटी गंभीर बीमारियों से निपटने के हमारे तरीके को बदलकर रख देगी। उदाहरण के तौर पर किसी डायबिटीज पीडि़त व्यक्ति की आंख में लगा कॉन्टेक्ट लेंस उसके आंसूओं में शुगर लेवल का पता लगा सकेगा।

कॉन्टेक्ट लेंस से शुगर लेवल की यह जानकारी व्यक्ति के स्मार्टफोन को मिल जाएगी।' उन्होंने बताया कि इसी तरह पार्किंसन जैसी बीमारी में दिमाग में लगाए जाने वाले उपकरण इस बीमारी से निपटने की दिशा में मददगार हो सकते हैं। यहां तक कि भविष्य में इन उपकरणों की मदद से अंगों को फिर से काम करने लायक बनाना भी संभव हो सकता है।

पढ़ेंः आई डोनेशन में झारखंड काफी पीछे

Posted By: Sanjeev Tiwari

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस