लाहौर। पाकिस्तान का एक चार सदस्यीय प्रतिनिधिमंडल भारत की यात्रा कर साबरमती रिवर फ्रंट प्रोजक्ट (एसआरडीपी) का अध्ययन करेगा। यह प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की बड़ी विकासात्मक पहलों में एक है जिसकी उन्होंने गुजरात के मुख्यमंत्री रहते शुरुआत की थी।

डॉन ऑनलाइन ने लाहौर विकास प्राधिकरण (एलडीए) के एक वरिष्ठ अधिकारी के हवाले से कहा कि एसआरडीपी के बारे में सुनने के बाद पाकिस्तान के प्रधानमंत्री नवाज शरीफ ने इसमें रुचि दिखाई है। उन्होंने अधिकारियों को शीघ्र दौरे के लिए प्रेरित किया। प्रतिनिधिमंडल का तीन दिवसीय दौरा रविवार से शुरू हुआ है। पंजाब सरकार के एक अधिकारी ने बताया कि एक विदेशी कंपनी की मदद से एलडीए ने लाहौर में रावी रिवरफ्रंट अर्बन डेवलपमेंट प्रोजेक्ट (आरआरयूडीपी) की व्यवहार्यता से संबंधित प्रारंभिक काम शुरू किया है। प्रतिनिधिमंडल का मुख्य मकसद साबरमती मॉडल का अध्ययन करना है। उन्होंने कहा, 'प्रधानमंत्री ने अपने आवास पर आरआरयूडीपी की समय-समय पर हुई बैठकों में अधिकारियों से भारत की यात्रा करने को कहा था।' पाकिस्तानी प्रतिनिधिमंडल सोमवार को अहमदाबाद पहुंचेगा।

पढ़ें : साबरमती की तरह स्वच्छ होगी यमुना

पढ़ें : जल्द पेश होगा साबरमती की तर्ज पर गंगा सफाई का फार्मूला

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस