कराची। पाकिस्तान ने रविवार को सद्भावना दिखाते हुए दो जेलों में बंद तीन नाबालिगों समेत 163 भारतीय मछुआरों को रिहा किया। इस पर हाल ही में रूस में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और उनके पाकिस्तानी समकक्ष नवाज शरीफ के बीच सहमति बनी थी।

सिंध प्रांत के एक अधिकारी ने कहा कि यहां की लांधी और मलिर जेलों से एक 11 वर्षीय बालक समेत मछुआरों को छोड़ा गया। इन्हें कराची के कैंट स्टेशन से लाहौर ले जाया जाएगा और सोमवार को वाघा सीमा पर उन्हें भारतीय अधिकारियों के हवाले कर दिया जाएगा।

रिहा मछुआरों को प्रांतीय सरकार की ओर से उपहार और नकदी भेंट की गई। अधिकारी ने बताया कि पिछले महीने रूस के उफा शहर में दोनों देशों के प्रधानमंत्रियों के बीच हुई मुलाकात के बाद सद्भावना के तौर पर मछुआरों की रिहाई हुई है।

इस मुलाकात में दोनों पक्षों ने एक-दूसरे के यहां बंद मछुआरों को उनकी नावों के साथ 15 दिनों के भीतर रिहा करने का फैसला किया था। दोनों ओर से हाल ही में आदान-प्रदान की गई सूची के अनुसार, पाकिस्तान में 355 भारतीय मछुआरे और 27 पाकिस्तानी मछुआरे भारतीय जेलों में बंद हैं।

Posted By: Murari sharan

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस