रोम। इटली की सर्वोच्च अदालत ने पूर्व प्रधानमंत्री सिल्वियो बेर्लुस्कोनी के खिलाफ सार्वजनिक पदों पर दो साल के प्रतिबंध को बरकरार रखा है।

उन पर ये प्रतिबंध कर धोखाधड़ी के सिलसिले में दोषी होने पर लगाया गया था। बेर्लुस्कोनी इटली के मीडिया मुगल हैं। इस प्रतिबंध के जारी रहने का मतलब ये हुआ कि वह चुनाव नहीं लड़ सकेंगे। 77 वर्षीय बेर्लुस्कोनी को धोखाधड़ी के लिए चार साल की जेल की सजा भी सुनाई गई थी। वर्ष 2006 के एमनेस्टी कानून के तहत उन्हें सजा में एक साल की राहत मिल गई। इस सजा के चलते उन्हें सीनेट में कुर्सी से भी हाथ धोना पड़ा।

वहीं एक अन्य मामले में मिलान की एक अदालत ने उनके सार्वजनिक पदों पर रहने पर आजीवन प्रतिबंध लगाया हुआ है। इस कोर्ट ने उन्हें कम उम्र की किशोरी के साथ सेक्स और प्रधानमंत्री के अधिकारों का दुरुपयोग कर मामले को रफा दफा करने के लिए सात साल के जेल की सजा भी सुनाई हुई है।

सर्वोच्च अदालत के इस फैसले के बाद वह अब केवल अपने राजनीतिक दल फोरजा के लिए चुनाव अभियान में ही हिस्सा ले पाएंगे।

बेर्लुस्कोनी से संबंधित समाचार पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें।