किरकुक। इस्लामिक स्टेट (आइएस) का झंडा जलाने से नाराज के आतंकियों ने उत्तरी इराक में 170 लोगों को बंधक बना लिया। आतंकी झंडा लगाने वालों की तलाश में थे।

खुफिया एजेंसी के एक अधिकारी ने बताया कि आइएस आतंकियों ने उत्तरी इराक के किरकुक प्रांत से 170 लोगों को कब्जे में लिया है। ये ग्रामीण अल-शाजरा व गरीब गांव के रहने वाले बताए गए हैं। अधिकारी ने कहा कि तकरीबन 30 वाहनों से आए आइएस आतंकी अपहृत ग्रामीणों को हविजा शहर ले गए हैं।

इस शहर में आतंकियों ने कोर्ट और जेल बना रखे हैं। एक गांव से 90 व दूसरे 80 लोगों को बंधक बनाया गया। ग्रामीणों के मुताबिक, आतंकी उन 15 लोगों की तलाश में थे जिन्होंने आइएस का झंडा जलाया था। ग्रामीणों को बंधक बनाने का यह कोई पहला मामला नहीं है।

पिछले वर्ष सितंबर में झंडा जलाने व उनके ठिकानों को नष्ट करने के आरोप में किरकुक से ही 50 और विद्रोही गुट बनाने के आरोप में 20 लोगों को बंधक बनाया था। हालांकि, बाद में कई लोगों को छोड़ दिया गया था।

आइएस से जुड़े मौलवी की सीरिया में हत्याः

बेरुत। उत्तरी सीरिया के कोबानी शहर में आइएस से जुड़े एक मौलवी की हत्या कर दी गई है। ब्रिटेन स्थित सीरियाई मानवाधिकार संगठन के मुताबिक कुर्द लड़ाकों के साथ गुरुवार को हुए संघर्ष में ओटमन अल-नाजेह अल-असीरी की मौत हो गई। आतंकियों के मुताबिक, अल-असीरी की हवाई हमले में मौत हुई।

पढ़ेंः आइएस ने छह माह में 1878 लोगों को उतारा मौत के घाट

आइएस के निशाने पर हैं एलिजाबेथ के सुरक्षा गार्ड

Posted By: Sachin k

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस