मेलबर्न। आतंकी संगठन इस्लामिक स्टेट (आइएस) की नजर युवतियों पर है। युवाओं की तरह ही इन्हें भी भव्य जीवनशैली, सुरक्षा और शादी का प्रस्ताव देकर लुभाया जा रहा है। आस्ट्रेलियाई पुलिस ने शुक्रवार को यह खुलासा किया। बीते दो महीनों में ऑस्ट्रेलिया की कम से कम एक दर्जन युवतियां आतंकी संगठन का हिस्सा बनने के लिए घर से भागी हैं।

इनमें से पांच सीरिया पहुंचने में सफल रहीं। चार तुर्की में पकड़ी गई। दो लापता हैं और एक को आस्ट्रेलिया में सीमा सुरक्षा अधिकारियों ने गिरफ्तार किया है। गिरफ्तार 18 वर्षीय युवती ने बताया है कि आइएस में भर्ती करने वाले सोशल मीडिया के जरिए प्रलोभन दे रहे हैं। वे ऐसी महिलाओं को निशाना बना रहे हैं जो सीरिया और इराक जैसे संघर्षरत क्षेत्रों में आने के लिए आसानी से तैयार हो जाएं।

विक्टोरिया पुलिस की सहायक आयुक्त ट्रैसी लिनफोर्ड ने बताया घर से भागने वाली युवतियों की आयु 18 से 20 साल के बीच है। इनमें से अधिकतर खूंखार आतंकवादियों के बारे में 'रूमानी' ख्याल रखती हैं और 'जिहादी दुल्हन' बनना चाहती हैं। उन्हें लगता है कि इराक और सीरिया जाकर उनका जीवन बहुत अच्छा हो जाएगा। उन्होंने परिवार के सदस्यों से युवक और युवतियों के बदलते बर्ताव पर नजर रखने की अपील की है। पुलिस के अनुसार इसी दौरान कम से कम 30 आस्ट्रेलियाई युवक आइएस का हिस्सा बने हैं।

पढ़ें: इराक में आईएस के हमले में 17 सैनिकों की मौत

पैसों के दम पर मुस्लिमों को लुभा रहा है आईएस

Posted By: Kamal Verma

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप