सैन फ्रांसिस्को, प्रेट्र। अमेरिका में भारतीय मूल के किशोर चैतन्य करमचेडू ने खारे पानी को स्वच्छ पेयजल में तब्दील करने का सस्ता और आसान तरीका खोज निकाला है। उसके इस शोध ने प्रौद्योगिकी क्षेत्र की कई बड़ी कंपनियों और विश्वविद्यालयों का ध्यान आकर्षित किया है।

ओरेगन के पोर्टलैंड में रहने वाले चैतन्य ने अपनी हाईस्कूल कक्षा में शुरू हुए विज्ञान के एक प्रयोग से पूरे देश का ध्यान अपनी ओर खींचा। जेसुइट हाईस्कूल के इस छात्र ने कहा, 'मेरे पास दुनिया को बदलने की बड़ी योजना है। हर आठ व्यक्ति में से एक के पास साफ पानी पीने की व्यवस्था नहीं है। यह एक गंभीर समस्या है जिसे दूर करने की जरूरत है। धरती के करीब 70 फीसद हिस्से पर समुद्र है लेकिन इसका पानी खारा है। इससे पीने योग्य पानी बनाने का तरीका बेहद महंगा है। इसलिए यह इस राह की बड़ी समस्या है।'

चैतन्य ने बताया कि उन्होंने सोखने वाले उच्च पॉलीमर के साथ परीक्षण कर समुद्र के पानी से नमक हटाकर साफ पेयजल बनाने का सस्ता तरीका ईजाद किया है। स्कूल की बॉयोलॉजी शिक्षक डॉ लारा शमिह ने कहा कि मौजूदा तकनीक की तुलना में यह बेहद सस्ता है। इसकी पहुंच हर व्यक्ति तक हो सकती है।

यह भी पढ़ेंः 5 साल का बच्चा लौटा पाकिस्तान, पाक सरकार ने भारत का शुक्रिया अदा किया

Posted By: Gunateet Ojha

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस