इस्लामाबाद। पाकिस्तान के प्रधानमंत्री नवाज शरीफ ने शुक्रवार को कहा कि देश की प्रतिष्ठा, आत्मसम्मान और स्वाभिमान की कीमत पर भारत के साथ वार्ता नहीं होगी। उन्होंने एक दिन पहले ही सार्क शिखर सम्मेलन में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से हाथ मिलाया था।

काठमांडू में आयोजित सार्क शिखर सम्मेलन से लौटकर शरीफ ने कहा कि पाकिस्तान कश्मीर विवाद समेत सभी मसलों के समाधान के लिए अर्थपूर्ण वार्ता का इच्छुक है। उन्होंने कहा, 'भारत की ओर से विदेश सचिव स्तर की वार्ता रद की गई। पाकिस्तान की प्रतिष्ठा, सम्मान और स्वाभिमान को नुकसान नहीं पहुंचाने की बात ध्यान में रखते हुए वार्ता परिणाम निकलने वाली होनी चाहिए।' शरीफ ने कहा, 'अगर दोनों ही पक्ष हमेशा के लिए समस्या का समाधान चाहते हैं तो कश्मीर समेत सभी विवादास्पद मसलों पर गंभीर बात होनी चाहिए।'

'भारत को वार्ता रद नहीं करनी चाहिए थी'

इसके पहले सार्क सम्मेलन से लौटते वक्त बृहस्पतिवार को विमान में संवाददाताओं से शरीफ ने कहा था कि भारत को विदेश सचिवों की वार्ता रद नहीं करनी चाहिए थी। कश्मीरी नेताओं के साथ बातचीत में कुछ भी नया नहीं था।

नमो से दो बार मिलाए हाथ

शरीफ ने कहा, 'विदेश सचिवों की वार्ता रद हुई है लेकिन हम अभिवादन कर सकते हैं। कम से कम एक दूसरे का हालचाल तो पूछ सकते हैं। हमने हाथ मिलाए।' उन्होंने बताया कि सार्क सम्मेलन में अपने भारतीय समकक्ष से उन्होंने दो बार हाथ मिलाए।

पढ़ें: दक्षेस में नमो- नवाज के मिले हाथ

Posted By: Murari sharan

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप