न्यूयॉर्क। द्विपक्षीय संबंधों क्तको सामान्य बनाने के लिए भारत बातचीत का इच्छुक नहीं है। भारत का यह रुख दोनों देशों के बीच संबंधों को पटरी पर लाने में बाधक है। यह बात संयुक्त राष्ट्र में पाकिस्तान की स्थायी प्रतिनिधि मलीहा लोधी ने यूएस आर्मी वार कॉलेज के छात्रों और स्टाफ को संबोधित करते हुए कही।

मलीहा ने कहा, भारत में सत्ता परिवर्तन के बाद जब नरेंद्र मोदी की सरकार बनी तो एक सकारात्मक शुरुआत हुई। लेकिन बाद में भारत ने बिना ठोस कारण के बातचीत की प्रक्रिया को स्थगित कर दिया। संयुक्त राष्ट्र में पाकिस्तानी मिशन ने प्रेस विज्ञप्ति जारी करके कहा है कि पाकिस्तान ने बातचीत को पुनर्जीवित करने के लिए व्यापक रूपरेखा तैयार की लेकिन भारत ने उसके प्रति कोई उत्सुकता नहीं दिखाई।

भारत का यह रुख दोनों देशों के बीच संबंधों को आगे बढ़ाने में बाधा है। लोधी ने कहा है कि आतंकवाद को हराना, अर्थव्यवस्था का विकास और पड़ोसियों के साथ शांतिपूर्ण बेहतर संबंध पाकिस्तान की सर्वोच्च प्राथमिकताओं में शामिल हैं। प्राथमिकताओं के जिक्र में उन्होंने अफगानिस्तान में शांति व सुरक्षा की स्थापना और भारत के साथ अच्छे संबंधों की बात को खासतौर पर शामिल किया।

पढ़ें- पाकिस्तान को सभी आतंकी समूहों के खिलाफ कार्रवाई करनी चाहिए: अमेरिका

Posted By: Atul Gupta

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप