इस्लामाबाद। पाकिस्तान में पिछले दो सप्ताह से जारी राजनीतिक गतिरोध को खत्म करने के लिए अब पाकिस्तान सेना मध्यस्थ की भूमिका निभाने के लिए तैयार हो गई है। नवाज सरकार और सरकार के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे ताहिर उल कादरी व इमरान खान ने भी इस पर अपनी सहमति देने के बाद शुक्रवार को सेना प्रमुख राहील शरीफ से मुलाकात की है।

इस मुलाकात में पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी आईएसआई के महानिदेशक ने भी हिस्सा लिया। यह मीटिंग करीब पचास मिनट तक चली।

सेना के प्रवक्ता मेजर जनरल असीम बाजवा ने शुक्रवार को बतया कि खान और कादरी दोनों ने सेना प्रमुख से अलग-अलग मुलाकात की। इस मुलाकात के बाद दोनों नेता बातचीत को आगे बढ़ाने पर भी सहमत हुए हैं। इस संबंध में दोनों नेता कुछ मंत्रियों से मुलाकात करके संभावित समझौते पर चर्चा कर सकते हैं। प्रधानमंत्री कार्यालय ने बताया कि सेना प्रमुख ने प्रधानमंत्री शरीफ से मुलाकात करके वर्तमान राजनैतिक संकट पर विचार-विमर्श किया।

खान और कादरी ने अपने समर्थकों को बताया कि उन्होंने सेना की मध्यस्था स्वीकार की है और अपनी मांगें पूरी होने तक इंतजार करेंगे। गौरतलब है कि इमरान खान और तहीर-उल कादरी प्रधानमंत्री नवाज शरीफ से इस्तीफा देने की मांग कर रहे हैं। इनका आरोप है कि नवाज ने वर्ष 2013 के आम चुनाव का परिणाम अपने हक में करने के लिए चुनावों में जबरदस्त पैमाने पर हेराफेरी की थी।

पढ़ें: नवाज पर होगी एफआईआर, प्रदर्शनकारियों ने मांगा इस्तीफा

शरीफ बोले नहीं दूंगा इस्तीफा