वाशिंगटन, प्रेट्र/रायटर। मंगलवार को 36 साल के हुए जेरेड कुश्नर को ससुर डोनाल्ड ट्रंप ने खास तोहफा दिया है। 20 जनवरी को अमेरिकी राष्ट्रपति पद की शपथ लेने जा रहे ट्रंप ने कुश्नर को वरिष्ठ सलाहकार बनाया है। वे व्यापार और मध्य-पूर्व के मामलों पर सलाह देंगे।

हालांकि उनकी नियुक्ति को 50 साल पुराने एंटी नेपोटिज्म लॉ (भाई-भतीजावाद कानून) के तहत चुनौती मिल सकती है। राष्ट्रपति चुनाव प्रचार के दौरान कुश्नर की भूमिका की खुद ट्रंप सार्वजनिक रूप से सराहना कर चुके हैं। कारोबार जगत की सम्मानित हस्ती और रियल स्टेट डेवलपर कुश्नर की ट्रंप की ऐतिहासिक जीत के पीछे की रणनीति बनाने और उसे क्रियान्वित करने में महत्वपूर्ण भूमिका थी।

यही कारण है कि कानून और नैतिकता संबंधी चिंताओं को दरकिनार कर ट्रंप ने उन्हें एक ऐसी भूमिका के लिए चुना है जिससे वे नए प्रशासन के सर्वाधिक ताकतवर लोगों में से एक होंगे। ट्रंप ने सोमवार को एक बयान में कहा, चुनाव प्रचार के दौरान कुश्नर मेरे भरोसेमंद सलाहकार रहे और अब अपने प्रशासन में एक प्रमुख भूमिका में उन्हें लेने पर मुझे गर्व है। वह उद्योग और राजनीति दोनों क्षेत्रों में काफी सफल रहे हैं। वह मेरे दल के एक अहम सदस्य होंगे। ट्रंप की सत्ता हस्तांतरण टीम ने एक बयान जारी कर कहा है कि कुश्नर ने प्रशासन में सेवाएं देने के एवज में वेतन नहीं लेने का फैसला किया है। वे ह्वाइट हाउस के चीफ ऑफ स्टाफ रींस प्रीबस और मुख्य रणनीतिकार स्टीव ब्रेनन के साथ मिलकर ट्रंप के एजेंडे को कार्यान्वयित करेंगे।

इवांका के पति हैं कुश्नर

ट्रंप की सबसे चर्चित संतान इंवाका के पति हैं कुश्नर। वे कट्टर यहूदी परिवार से ताल्लुक रखते हैं। उनके दादा-दादी हिटलर के यहूदियों पर किए गए जनसंहार से किसी तरह बच निकले थे। बीबीसी के अनुसार कुश्नर के पिता कर चोरी के मामले में जेल की सजा काट चुके हैं। फो‌र्ब्स के अनुसार माता-पिता और भाई के साथ संयुक्त रूप से 1.8 अरब डॉलर (122 अरब रुपये) की संपत्ति के वे मालिक हैं। कुश्नर कंपनीज के सीईओ और न्यूयॉर्क ऑब्जर्वर नामक अखबार के प्रकाशक हैं। शर्मीले स्वभाव के कुश्नर कैमरे से दूर रहकर खामोशी से काम करना पसंद करते हैं।

67 में बने कानून की परीक्षा

1960 में जॉन एफ केनेडी ने राष्ट्रपति बनने के बाद अपने भाई रॉबर्ट को अटॉर्नी जनरल बनाया था। भविष्य में ऐसी नियुक्तियों को रोकने के लिए 1967 में राष्ट्रपति लिंडन जॉनसन के कार्यकाल में भाई-भतीजावाद विरोधी कानून लागू किया गया। इसके अनुसार राष्ट्रपति कैबिनेट पदों पर रिश्तेदार की नियुक्ति नहीं कर सकते। 1993 में राष्ट्रपति बिल क्लिंटन ने विरोध के बाद स्वास्थ्य क्षेत्र में सुधार के लिए बनी समिति के प्रमुख पद से अपनी पत्नी हिलेरी की नियुक्ति वापस ले ली थी।

ट्रंप की सत्ता हस्तांतरण टीम का कहना है कि सलाहकार कैबिनेट स्तर का पद नहीं होता है। ऐसे में कुश्नर की नियुक्ति में कोई कानूनी अड़चन नहीं है। लेकिन, विरोधियों का कहना है कि कानून के अनुसार एक जन अधिकारी जिस एजेंसी में काम कर रहा है उस एजेंसी में वह रिश्तेदारों की नियुक्ति नहीं कर सकता। कानून में 'जन अधिकारी' की व्याख्या में राष्ट्रपति भी शामिल हैं और 'रिश्तेदार' शब्द की परिभाषा में दामाद भी आता है।

पढ़ेंः पहली बार विश्व आर्थिक मंच की बैठक में हिस्सा लेंगे चीनी राष्ट्रपति

Posted By: Sanjeev Tiwari

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस