बीजिंग। चीन ने धरती पर वापस लौटने वाले उपग्रह को बुधवार को सफलतापूर्वक लांच किया। अंतरिक्ष में प्रयोगों को अंजाम देने के बाद यह धरती पर लौट आएगा। इन प्रयोगों से वैज्ञानिकों को सूक्ष्म गुरुत्व और अंतरिक्ष विज्ञान के अध्ययन में मदद मिलेगी।

उत्तर पश्चिम चीन के गोबी मरुस्थल स्थित जिउक्वान सेटेलाइट लांच सेंटर से लांग मार्च 2-डी राकेट के जरिये एसजे-10 को कक्षा में स्थापित किया गया। यह उपग्रह बंदूक की गोली के आकार का है। अंतरिक्ष में यह कुल 19 प्रयोगों को अंजाम देगा।

इनमें सूक्ष्म गुरुत्व द्रव भौतिकी, अंतरिक्षीय पदार्थ, अंतरिक्ष विकिरण प्रभाव, सूक्ष्म गुरुत्व जैविक प्रभाव और अंतरिक्ष जैव-तकनीक से जुड़े प्रयोग शामिल होंगे। इसके बाद यह उपग्रह नतीजों के साथ पृथ्वी पर लौट आएगा।

इसके एक प्रयोग में सूक्ष्म गुरुत्व में चूहे के भ्रूण के विकास का भी अध्ययन किया जाएगा। इसके अलावा मधुमक्खियों और चूहे की कोशिकाओं की जीन संबंधी स्थिरता पर विकिरण के प्रभाव का भी अध्ययन किया जाएगा।

यह भी पढ़ेंः केजरी का ट्वीट- 'देशभक्त हो तो पिटोगे, हिन्दू देशभक्त होत जरूर पिटोगे'

Posted By: Gunateet Ojha

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस