बीजिंग (पीटीआई)। तेजी से सैन्य आधुनिकीकरण में जुटा चीन अगली पीढ़ी की क्रूज मिसाइल विकसित करने में जुटा है। मॉड्यूलर डिजाइन पर आधारित यह मिसाइल कृत्रिम इंटेलीजेंस तकनीक (एआइ) से लैस होगी। लड़ाई के दौरान परिस्थितियों के हिसाब से सेना इसका इस्तेमाल करने में सक्षम होगी।

चाइना एयरोस्पेस एंड इंडस्ट्री कोर के जनरल डिपार्टमेंट के निदेशक वांग चांगकिंग ने बताया,' हम नए क्रूज मिसाइलों के इस्तेमाल में ऐसा रुख अपनाना चाहते हैं जो हमारे सैन्य कमांडरों को लड़ाई की परिस्थितियों और उनकी खास जरूरतों के मुताबिक सक्षम कर सके।' उनके हवाले से सरकारी अखबार चाइना डेली ने बताया है कि भविष्य की क्रूज मिसाइलों में उच्च स्तर की कृत्रिम इंटेलीजेंस क्षमता होगी। कमांडर इनका वक्ती जरूरत के मुताबिक या फिर दागो और भूल जाओ की तर्ज पर इस्तेमाल कर सकेंगे। इन मिसाइलों को दागे जाने के बाद भी वे निर्देश देने में सक्षम होंगे।

एयरोस्पेस नॉलेज पत्रिका के एडिटर इन चीफ ने बताया कि मॉड्यूलर मिसाइल अपनी विध्वंसक क्षमता और रेंज में बदलाव करने में सक्षम होगा तथा यह जमीन और समुद्र पर निशानों को भेदने में उपयुक्त होगा। वांग ने ज्यादा विस्तार से जानकारी देने से इन्कार करते हुए कहा कि एआइ के इस्तेमाल में चीन पहले से ही ग्लोबल लीडर है। गौरतलब है कि राष्ट्रपति शी चिनफिंग खुद सेना के आधुनिकीकरण के महत्वाकांक्षी योजना की निगरानी कर रहे हैं। इसके तहत लड़ाकू विमानों और विमानवाहक पोत तैयार करने के लिए काम किया जा रहा है।

चीन से जुड़ी सभी खबरों को पढ़ने के लिए क्लिक करें

रिजिजू ने कहा, चीनी सेना ने पिछले महीने दो बार सीमा लांघी

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस