इस्लामाबाद। पाकिस्तान ने प्रतिबंधित आतंकी संगठन जैश-ए-मुहम्मद के सरगना मसूद अजहर पर फिर नरम रुख दिखाया है। अजहर ने हाल में गुलाम कश्मीर के मुजफ्फराबाद में आयोजित एक रैली में दस हजार से ज्यादा की भीड़ को संबोधित करते हुए भारत के खिलाफ जिहाद की अपील की थी। लेकिन, पाकिस्तान ने इस रैली को महत्वहीन कार्यक्रम करार दिया है।

विदेश मंत्रालय की प्रवक्ता तसनीम असलम ने गुरुवार को कहा, 'हमने अजहर की रैली से संबंधित मीडिया की खबरें देखी हैं। शायद हमारे निगरानी तंत्र को चकमा देकर वह रैली को संबोधित करने में कामयाब रहा। लेकिन, यह संगठन पाकिस्तान में प्रतिबंधित है और ऐसा बार-बार नहीं होने दिया जाएगा।' अजहर जैसे जिहादी नेताओं की पाकिस्तान के सार्वजनिक मंचों पर उपस्थिति से जुड़े सवाल पर तसनीम ने गोलमोल जवाब देते हुए कहा, ऐसे लोगों के बयान से भारत को चिंतित नहीं होना चाहिए। वे एक खास विचारधारा से जुड़े हुए लोग हैं।

मसूद अजहर की रैली पर पाकिस्तान में उठे सवाल

अजहर ने गत 26 जनवरी को फोन से इस रैली को संबोधित करते हुए कहा था कि भारत के खिलाफ जिहाद के लिए हजारों लोग तैयार हैं। विशेषज्ञों ने इस रैली को जैश का शक्ति प्रदर्शन करार दिया है। भारतीय जेल में बंद अजहर को 1999 में इंडियन एयरलाइंस की फ्लाइट के अपहृत यात्रियों के बदले में छोड़ा गया था।

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप