वॉशिंगटन। पाकिस्तान की किशोर मानवाधिकार कार्यकर्ता और नोबेल पुरस्कार विजेता मलाला यूसुफजई को अमेरिका के लिबर्टी मेडल से सम्मानित किया गया है। मलाला ने पुरस्कार स्वरूप जीती गई एक लाख डॉलर की राशि पाकिस्तान में शिक्षा के लिए समर्पित कर दी है।

कुछ दिनों पहले ही उन्हें नोबेल शांति पुरस्कार देने की घोषणा की गई थी। मलाला को यूएस लिबर्टी मेडल से सम्मानित करने वाले अमेरिकी नेशनल कंस्टीटयूशन सेंटर ने कहा कि उन्होंने प्रतिकूल परिस्थितियों के बावजूद लोगों की स्वतंत्रता एवं मानवाधिकारों के लिए आवाज उठाने की अपनी हिम्मत व सहिष्णुता के लिए यह पुरस्कार जीता है। इस मौके पर मलाला ने दुनिया भर के देशों से धन को बंदूकों के बजाय किताबों पर खर्च करने की अपील की। उन्होंने कहा कि हम एक साथ मिलकर डर, अत्याचार और आतंकवाद से कहीं ज्यादा मजबूत हैं। गरीबी, अज्ञानता और आतंकवाद के खिलाफ शिक्षा सर्वश्रेष्ठ हथियार है।

मलाला वर्तमान में ब्रिटेन में रह रही हैं। वे पाकिस्तान में लड़कियों की शिक्षा के लिए अभियान चलाने को लेकर चर्चा में आई थी। उन्हें अक्टूबर 2012 में तालिबान ने सिर पर गोली मारी थी।

लिबर्टी मेडल के बारे में

अमेरिका में लिबर्टी मेडल हर साल साहस और दृढ़ निश्चय वाले महिलाओं और पुरुषों को दिया जाता है। इसके पूर्व विजेताओं में हिलेरी क्लिंटन, नेलसन मंडेला, बिल क्लिंटन, कोफी अन्नान और हामिद करजई जैसी अंतरराष्ट्रीय हस्तियां शामिल हैं।

पढ़ें: मलाला के नोबेल समारोह में शामिल नहीं होंगे नवाज शरीफ

पढ़ें: दुनिया की आंखों का तारा बनीं मलाला युसूफजई

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

budget2021