कोलकाता, जागरण संवाददाता। हावड़ा के जिले के उलबेड़िया में कूड़े के ढेर में 17 मानव भ्रूण मिले हैं। मंगलवार को उलबेड़िया नगर पालिका के वार्ड नंबर 31 के बनितल्ला खानपाड़ा के ड्रंपिंग ग्राउंड से यह सभी भ्रूण मिले हैं। सूत्रों के अनुसार नगर पालिका के सफाई कर्मचारी कूड़ा हटाने के लिए गए थे। उसी क्रम में प्लास्टिक के थैलों में भ्रूण मिले। बता दें कि 17 भ्रूणों में से 10 लड़कियां और सात लड़के हैं। पुलिस ने इसकी जांच शुरू कर दी है। बता दें कि उलबेड़िया में डेढ़ किलोमीटर के दायरे में करीब 30 निजी अस्पताल हैं। स्थानीय लोगों की आशंका है कि गर्भपात के बाद भ्रूण को डंपिंग ग्राउंड में फेंका गया है।

कुत्‍ते भी भ्रूण को लेकर घूमते थे

उलबेड़िया नगर पालिका के उपाध्यक्ष व वार्ड नंबर 31 के पार्षद इमानुर रहमान मौके पर पहुंचे। स्थानीय लोगों की शिकायत है कि इस डंपिंग ग्राउंड में लंबे समय से भ्रूण फेंके जा रहे थे। कुत्ते इन्हें लेकर आसपास के इलाके में भी घूमा करते थे। नगर पालिका को सूचना देने के बावजूद कोई कार्रवाई नहीं की गई। नगर पालिका क्षेत्र के लोगों के एक वर्ग ने शिकायत की है कि उलबेड़िया के नर्सिंग होम में अवैध रूप से गर्भपात कराए जा रहे हैं और भ्रूण को यहां फेंके गए हैं। कानूनी रूप से प्रतिबंधित होने के बावजूद इन इलाकों में भ्रूण जांच और अनैतिक रूप से गर्भपात करवाया जाता है।

हावड़ा जिला मुख्य स्वास्थ्य अधिकारी डाक्टर निताईचंद्र मंडल ने बताया कि मामले को काफी गंभीरता से लिया जा रहा है। इस बात की जांच की जा रही है कि उलबेड़िया के किन निजी अस्पतालों ने ऐसा किया है। स्थानीय नर्सिंग होम और इलाके के सीसीटीवी फुटेज संग्रह किए जाएंगे, ताकि डंपिंग ग्राउंड में इन भ्रूण को फेंकने वालों की पहचान की जा सके।

Edited By: Sumita Jaiswal