हरदोई, [पंकज मिश्रा]। हथियारों और सुरक्षा उपकरणों में आत्मनिर्भर बनाने की दिशा में उठाए गए कदमों में हरदोई के संडीला में स्थापित इंग्लैंड की मशहूर कंपनी वेब्ले स्काट .45 बोर की पिस्टल लेकर बाजार में आ रही है। रिवाल्वर के धूम मचाने के बाद कंपनी ने पिस्टल का निर्माण शुरू कर दिया है। पहले .32 बोर की पिस्टल लांच होने वाली थी, लेकिन अब उसे कुछ दिन तक के लिए रोककर सितंबर में .45 बोर की पिस्टल को लांच कर इसकी बुकिंग शुरू कर दी जाएगी।

औद्योगिक क्षेत्र संडीला में मेक इन इंडिया के तहत इंग्लैंड की कंपनी वेब्ले स्काट ने कानपुर-लखनऊ की आर्म्स कंपनी स्याल ग्रुप के साथ शस्त्र फैक्ट्री स्थापित की है। अक्टूबर 2021 में रिवाल्वर बाजार में उतारने के बाद अब कंपनी पिस्टल लांच करने जा रही है।

कंपनी के निदेशक सुरेंद्र पाल सिंह स्याल ने बताया कि .32 और .45 बोर दोनों की पिस्टल कंपनी बना रही है। लखनऊ व कानपुर के साथ ही अन्य राज्यों में कंपनी के आर्म्स सप्लायर से मिले फीडबैक में .45 बोर की मांग ज्यादा है। उसी को देखते हुए .45 बोर की पिस्टल को बाजार में पहले लाया जाएगा।

आठ फायर वाली होगी .45 बोर की पिस्टल : .45 बोर की पिस्टल कई खूबियों वाली है। कंपनी के निदेशक के अनुसार पिस्टल आठ फायर की होगी और इसका वजन करीब 900 ग्राम तथा नाल की लंबाई 128 एमएम होगी, जिसकी कीमत करीब सवा दो लाख रुपये रखी गई है। .45 बोर का कारतूस मोटा होता है और इसकी मारक क्षमता 50 मीटर होती है।

संडीला में .45 बोर का कारतूस भी बनेगा : .45 बोर का कारतूस अभी बाहर से आता है। निदेशक सुरेंद्र पाल सिंह बताते हैं कि भारत में एक कंपनी अभी .45 बोर की पिस्टल तो बना रही है, लेकिन कारतूस कोई नहीं बना रहा है। संडीला स्थित वेब्ले स्काट कंपनी पिस्टल के बाद .45 बोर का कारतूस भी बनाएगी, जिसका लाइसेंस बन चुका है। पिस्टल लांच होने के बाद कारतूस का निर्माण भी शुरू हो जाएगा।

Edited By: Anurag Gupta