जमशेदपुर, जासं। ओडिशा में बीते चार दिनों से हो रहे लगातार वर्षा के कारण नदियां लबालब भर गई है। यही नहीं जमशेदपुर को प्रभावित करने वाले ओडिशा का व्यांगबिल डैम का जलस्तर लबालब हो गया है। व्यांगबिल डैम की क्षमता 305 मीटर है, जबकि शुक्रवार को डैम का स्तर 304.60 मीटर तक पहुंच गई है। इस संबंध में रायरंगपुर के सुपरीटेंडेंट इंजीनियर ने बताया है कि व्यांगबिल डैम का एक फाटक को 0.60 मीटर खोला गया है। जिससे 49.00 क्यूमेस पानी डिस्चार्ज हो रहा है। यदि वर्षा की स्थिति यही रही तो आने वाले समय में और गेट खोला जा सकता है। ऐसी स्थिति में खरकई नदी के किनारे बसे बस्तियों के साथ ही स्वर्णरेखा नदी के किनारे बसे बस्तियों के लोगों को अलर्ट किया गया है। ओडिसा के चीफ इंजीनियर ने जमशेदपुर के साथ ही सरायकेला प्रशासन को पहले से आगाह कर दिया है। यही कारण है कि शुक्रवार की सुबह से खरकई नदी व स्वर्णरेखा नदी के जलस्तर में वृद्धि देखी जा रही है।

मौसम विभाग ने दी चेतावनी अगले पांच दिनों तक होगी वर्षा

क्षेत्रीय कृषि अनुसंधान केंद्र सह मौसम विज्ञान केंद्र दारीसाई से जारी मौसम बुलेटिन के अनुसार अगले पांच दिनों तक शहर एवं उसके आसपास के इलाके में झमाझम वर्षा होगी। मौसम विभाग के अनुसार 15 अगस्त स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर भारी वर्षा की चेतावनी दी है। मौसम विभाग के अनुसार 15 अगस्त के दिन 36 मिमी वर्षा होने की संभावना जताया है। यही नहीं आठ किलोमीटर के हिसाब से हवा बहने की भी संभावना जतायी गई है।

अगले पांच दिनों तक जमशेदपुर में संभावित वर्षा

दिनांक - वर्षा मिमी

13 अगस्त - 20 मिमी

14 अगस्त - 30 मिमी

15 अगस्त - 36 मिमी

16 अगस्त - 12 मिमी

17 अगस्त - 09 मिमी

लाउडस्पीकर से लोगों को किया जा रहा आगाह

व्यांगबिल डैम का एक गेट खोलने के कारण शुक्रवार की रात तक खरकई एवं स्वर्णरेखा नदी के जलस्तर में वृद्धि होने की संभावना है। यदि जमशेदपुर के आसपास के इलाके में वर्षा हुई तो बाढ़ आने की भी संभावना है। इसके मद्देनजर जमशेदपुर की उपायुक्त ने गुरुवार को ही अलर्ट जारी कर दिया था। खरकई व स्वर्णरेखा नदी के तटीय इलाकों में रहने वाले लोगों को लाउडस्पीकर के माध्यम से अलर्ट किया जा रहा है। लोगों को बताया गया है कि वर्षा व नदी के जलस्तर पर निगाह रखें, ताकि समय रहते अपने परिवार को सुरक्षित स्थानों पर जा सकें।

चांडिल डैम का जलस्तर 180.3 मीटर खतरे से दूर

चांडिल डैम का जलस्तर वर्तमान समय में 180.3 मीटर तक पहुंच गई है। इस संबंध में स्वर्णरेखा परियोजना चांडिल डैम के कार्यपालक अभियंता संजीव कुमार ने बताया कि यदि चांडिल डैम का जलस्तर 182 तक पहुंच जाती है तब फाटक खोलने पर विचार किया जा सकता है।

Edited By: Madhukar Kumar