हल्द्वानी, जागरण संवाददाता : Uttarakhand Weather Update : दक्षिण पश्चिम मानसून हल्का गति पकड़ रहा है। मौसम विभाग ने गुरुवार को पर्वतीय क्षेत्रों में अनेक जगहों पर हल्की से मध्यम वर्षा होने की संभावना जताई है। मैदानी क्षेत्रों में कुछ जगहों पर वर्षा होने की संभावना है।

मौसम विभाग ने शुक्रवार से वर्षा में तेजी आने की बात कही है। 19 व 20 अगस्त को कुमाऊं मंडल के अधिकांश जगहों पर हल्की से मध्यम वर्षा देखने को मिलेगी। नैनीताल, चम्पावत व बागेश्वर जिलों में कहीं कहीं पर भारी वर्षा होने की संभावना है।

तापमान में मामूली वृद्धि

बुधवार को तापमान में तेजी दिखी। हल्द्वानी के अधिकतम तापमान मंगलवार को 31.2 डिग्री सेल्सियस था, बुधवार को यह बढ़कर 32.7 डिग्री सेल्सियस पहुंच गया। न्यूनतम तापमान में मामूली वृद्धि देखी गई। बुधवार का न्यूनतम पारा 24.7 डिग्री रहा। नैनीताल का तापमान में मामूली कमी आई है। बुधवार का अधिकतम तापमान 23.2 डिग्री व न्यूनतम 16.7 डिग्री रहा। बागेश्वर के तापमान में कमी आई है। बुधवार को अधिकतम तापमान 35 डिग्री है।

पंचेश्वर में 266 मिमी वर्षा

बुधवार को कुछ जगह वर्षा हुई। चम्पावत जिले के पंचेश्वर में 266 मिमी वर्षा रिकार्ड हुई। बेरीनाग में 64 मिमी, बागेश्वर के शाम में 5 मिमी वर्षा मापी गई। जसपुर में 17 मिमी पानी बरसा।

एलधारा में फिर टूटी चट्टान

पिथौरागढ़ जिले के धारचूला के संवेदनशील एलधार में फिर विशाल चट्टान टूट गई। चट्टान टूटने से विशाल बोल्डर सड़क पर आ गया। सड़क पर मलबा जमा हो जाने से यातायात बाधित रहा। एलधार में दस रोज पूर्व बोल्डर गिरने से धारचूला बाजार के आधा दर्जन मकान क्षतिग्रस्त हो गए थे। कई मकानों को भारी क्षति पहुंची थी। सड़क बंद हो जाने से सीमा क्षेत्र का सम्पर्क भंग हो गया था। खासी मशक्कत के बाद सड़क खोली जा सकी थी।

सड़क खुलने के बाद पिछले कुछ दिनों से काम रोका गया था। बुधवार को एलधार में फिर काम शुरू कराया गया। रात्रि में एलधार में फिर विशाल चट्टान टूट गई। चट्टान के साथ आया विशाल बोल्डर सड़क पर अटक गया। सड़क नहीं खुली होती तो बोल्डर के आबादी में आने की पूरी संभावना थी। सड़क पर मलबा जमा हो जाने से कुछ देर आवागमन बंद रहा।

28 दिनों से नहीं खुलीं दो सड़कें

सीमांत पिथौरागढ़ जिले के तल्लाजौहार क्षेत्र की दो प्रमुख सड़केें 28 दिन बाद भी नहीं खुल पाई है। सड़कें नहीं खुलने से सैकडो़ की आबादी प्रभावित हो रही है। खाद्यान्न सहित तमाम जरूरी सामान गांवों तक पहुंचाने मेंं ग्रामीणों को खासी मशक्कत करनी पड़ रही है। तल्लाजौहार क्षेत्र के अंतर्गत बांसबगड़-कोटा पंद्रहपाला और बांसबगड़ धामी गांव सड़क जुलाई मध्य से बंद पड़ी है। दोनों सड़कों से दर्जनों गांव जुड़े हुए हैं।

Edited By: Skand Shukla