पति को बीमार बताकर लूट का मोबाइल बेचती थी महिला, चार लुटेरों के साथ गिरफ्तार

जागरण संवाददाता, साहिबाबाद : पुलिस ने बृहस्पतिवार सुबह करीब आठ बजे इंदिरापुरम के हर्षा सिटी माल व कनावनी पुलिया के पास से चार लुटेरों और लूट के मोबाइलों को बेचने वाली महिला को गिरफ्तार किया। उनके कब्जे से लूट के दो मोबाइल, तमंचा, कारतूस, तीन चाकू व बाइक बरामद की है। साढ़े चार फीट का लुटेरा गिरोह का मास्टरमाइंड है। महिला पति व बेटे को बीमार बताकर लोगों को लूट का मोबाइल बेचती थी।

पुलिस क्षेत्राधिकारी इंदिरापुरम अभय कुमार मिश्र ने बताया कि लुटेरों की पहचान शहीद नगर के सलमान उर्फ कोलम, न्यू सीमापुरी दिल्ली के आसिफ उर्फ बोंची उर्फ सलमान, उस्मानपुर दिल्ली के नरेश उर्फ हड्डी व मोईन मलिक उर्फ मोनू उर्फ मोनी और काशिम विहार साइन सिटी ट्रानिका सिटी की सीमा उर्फ बाजी के रूप में हुई। करीब साढ़े चार फीट का आसिफ उर्फ बोंची मास्टरमाइंड है। वह अन्य लुटेरों के साथ बाइक व स्कूटी पर बैठकर दिल्ली-एनसीआर के क्षेत्रों में घूम-घूमकर लूट करता है। उसने सलमान उर्फ कोलम के साथ 15 दिन पहले जयपुरिया सनराइज ग्रीन सोसायटी के पास युवती से आइफोन लूटा था। नरेश उर्फ हड्डी व मोईन मलिक ने एक माह पहले शक्ति खंड दो से एक युवक का मोबाइल लूटा था।

-------

पति व बेटे को बीमार बताकर बेचती थी मोबाइल :

अभय कुमार मिश्र ने बताया कि सीमा उर्फ बाजी बहुत ही शातिर है। लुटेरे उसे लूट का मोबाइल देते थे। वह उन्हें लेकर दिल्ली-एनसीआर के बड़े अस्पतालों के आसपास जाती थी। पति या बेटे को बीमार बताकर लोगों को बातों में फंसाती थी। उपचार के लिए पैसे की जरूरत होने के कारण सस्ते में मोबाइल बेचने का झांसा देती थी। सस्ता समझकर लोग उससे मोबाइल खरीद लेते थे। उन्हें नहीं पता चलता था कि लूट का मोबाइल है। उन्होंने बताया कि उसने दर्जनों मोबाइल बेचे हैं। विवरण एकत्र किया जा रहा है।

--------

15 मामलों में था वांछित : पुलिस क्षेत्राधिकारी इंदिरापुरम ने बताया कि आसिफ उर्फ बोंची के खिलाफ दिल्ली-एनसीआर में 26 मुकदमे दर्ज हैं। इंदिरापुरम कोतवाली दर्ज 15 मुकदमों में वह वांछित था। सलमान उर्फ कोलम के खिलाफ सात, नरेश के खिलाफ चार, मोईन के खिलाफ छह और सीमा के खिलाफ तीन मुकदमे दर्ज हैं।

Edited By: Jagran