रोहतास (सासाराम), जागरण संवाददाता। राज्य में जंगलराज के जिम्मेदार डमी मुख्यमंत्री नीतीश कुमार हैं। अरवल की घटना से बड़ा उदाहरण जंगलराज का और क्या हो सकता है। अपराधियों द्वारा दुर्व्यवहार में असफल रहने पर दो महिलाओं को आग लगाकर जिंदा जला दिया गया। इसके अलावा भागलपुर के पिपरैती में एक महिला के सरेआम धारदार हथियार से कई अंग काटकर हत्या कर दी गई। यदि मुख्यमंत्री में नैतिकता बची है तो वे अपने पद से तत्काल इस्तीफा दें। यह बातें केंद्रीय वन, पर्यावरण एवं जलवायु परिवर्तन राज्य मंत्री अश्विनी चौबे ने सोमवार को स्थानीय परिसदन में पत्रकारों को संबोधित करते हुए कहीं।

उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री बिहार को जंगलराज से मुक्ति दिलाने का भरोसा देकर सत्ता में आए थे। इसके बाद भी जंगलराज की तरफ राज्य को लेकर जा रहे हैं। राज्य में बेखौफ होकर आपराधिक घटनाओं को अंजाम दिया जा रहा है। हर दिन हो रही आपराधिक घटनाएं बिहार में जंगलराज की पोल खोलने के लिए काफी हैं।

मुजफ्फरपुर के कुढ़नी विधानसभा उपचुनाव के बारे में उन्होंने कहा कि वहां भाजपा को बढ़त मिली है। पार्टी जरूर वहां जीतने में कामयाब रहेगी। हिमाचल प्रदेश व गुजरात में चुनाव के दौरान मैंने भी प्रचार किया है, वहां एक बार फिर से भाजपा रिकार्ड सीट जीतकर सरकार बनाने में कामयाब होगी।

उन्होंने कहा कि देश की जनता को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व पर पूरा भरोसा है। प्रेस कांफ्रेंस के दौरान भाजपा एमएलसी निवेदिता सिंह, पूर्व भाजपा विधायक जवाहर प्रसाद, पूर्व भाजपा विधायक सत्यनारायण सिंह समेत कई अन्य उपस्थित थे।

Edited By: Ashisha Singh Rajput

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट