मुजफ्फरपुर, जागरण संवाददाता। स्थानीय जंक्शन को विश्वस्तरीय बनाने के कार्य में बुधवार से तेजी आ गई। आरकेएस कंस्ट्रक्शन ने भवन बनाने की तैयारी में जमीन मापी के साथ समाडी डिपो के समीप खाली पड़ी जमीन को जंगल-झाड़ साफ कर लिया है। रेल अधिकारियों ने बिजली अधिकारियों के साथ मिलकर अंडर ग्राउंड केबल वायर निकालने की रणनीति बनाई है। समाडी डिपो के पीछे इंजीनियङ्क्षरग विभाग के कार्यालय के समीप से 33 केवीए लाइन रेलवे परिसर से निकल रहा है। समाडी डिपो के समीप प्रस्तावित तीन तल का एराइवल बिङ्क्षल्डग 33 केवीए लाइन से प्रभावित हो रहा है। उसको सबसे पहले अंडरग्राउंड करना जरूरी है। इसको लेकर रेल भूमि विकास प्राधिकरण (आरएलडीए) के एजीएम पीआर ङ्क्षसह और बिजली विभाग के अरबन-1 के कार्यपालक अभियंता विजय कुमार ने सहायक विद्युत अभियंता रविरंजन भारद्वाज और जेई के साथ उक्त 33 केवीए लाइन का जायजा लिया। 10 पोल हटाकर अंडरग्राउंड केबल वायङ्क्षरग का प्रस्ताव दिया गया है। मौके पर रेलवे सहायक विद्युत अशोक चौधरी, सत्येंद्र कुमार वर्मा सहित अन्य रेल अधिकारी मौजूद थे। आरएलडीए के अधिकारी ने नार्थ बिहार पावर डिस्ट्रीब्यूशन के कार्यपालक अभियंता से इसका प्राक्कलन देने आग्रह किया। बिजली विभाग के कार्यपालक अभियंता ने कहा कि दो दिनों में प्राक्कलन पहुंच जाएगा। आरएलडीए की तरफ से पैसा जमा करते ही इस दिशा में काम शुरू कर दिया जाएगा।

नए फुट ओवरब्रिज के लिए जगह की पड़ताल

आरएलडीए के अधिकारियों ने नए फुट ओवरब्रिज के समीप की भूमि के बारे में जानकारी ली। उधर अस्थायी साधारण और आरक्षण टिकट घर बनाकर तैयार करना है। गुरुवार से उस पर भी काम शुरू जाएगा। आरकेएस कंस्ट्रक्शन ने अभी तक बेस कैंप नहीं बनाया है। माल गोदाम के समीप बेस कैंप बनाने की तैयारी है।

आज डीआरएम करेंगे निरीक्षण

सोनपुर रेलमंडल के डीआरएम नीलमणि गुरुवार को जंक्शन का निरीक्षण करेंगे। आरएलडीए एवं एजेंसी से अपडेट लेंगे। आरक्षण, यूटीएस, पार्सल आदि के अस्थायी कार्यालय के बारे में जानकारी लेकर उचित मार्गदर्शन देंगे।

 

Edited By: Ajit Kumar