हवा ने उड़ाया आदेश, दिन भर बिजली संकट

जागरण संवाददाता, बलिया : जिले में प्रतिदिन 150 से 200 मेगावाट बिजली की औसतन खपत है। स्वतंत्रता दिवस पर शासन ने कटौती मुक्त आपूर्ति का आदेश दिया था, जिले में यह अमल में नहीं लाया जा सका। कारण कि शहर में 63 मेगावाट क्षमता का पावर ट्रांसफार्मर इंस्टाल किया जाने लगा, इस कारण सुबह से दोपहर 12 बजे तक चार घंटे आपूर्ति ठप रही। उसके बाद जब लोड चालू हुआ तो तेज हवा चलने लगी। बिजली विभाग डर गया कि अगर तेज हवा के दौरान सप्लाई चालू की जाती है तो बड़े फाल्ट की संभावना बढ़ जाएगी। इस कारण शाम पांच बजे के बाद सप्लाई शुरू हो सकी। जिले के 90 फीसद स्थानों पर यही समस्या रही। इस कारण हर घर के लोग परेशान रहे। स्वतंत्रता दिवस पर दिल्ली के कार्यक्रम पर सभी की निगाहें टिकी रहतीं हैं। बिजली के अभाव में अधिकांश लोग उसका सीधा प्रसारण नहीं देख पाए। ग्रामीण क्षेत्र के उपभोक्ताओं का कहना है कि मेन सप्लाई का तार हर जगह जर्जर स्थिति में हैं। बारिश के मौसम में हल्की हवा या बारिश होने पर मेन लाइन में ही फाल्ट आ जाता है। उपभोक्ता बिजली का कनेक्शन अपनी सुख सुविधा के लिए लेते हैं, लेकिन विभाग की लापरवाही के कारण सभी हमेशा परेशान रहते हैं।

ग्रामीण क्षेत्रों दिन भर परेशान रहे उपभोक्ता

दुबहर : फीडर से आपूर्ति पूर्व की भांति 24 घंटे में मात्र दो घंटे रही। लाइन बार-बार ट्रिप करती रही। इससे लगभग 50 हजार की आबादी परेशान रही। क्षेत्र के लोगों ने बताया कि ऐसा अक्सर होते रहता है। आसमान में बादल रहने पर भी बिजली काट दी जाती है।

मझौंवा : सोनवानी विद्युत उपकेंद्र से जुड़े गांवों में विद्युत आपूर्ति की दशा दिन भर खराब रही। देर शाम तक लोग परेशान रहे। कई बार बिजली आई भी तो 10 मिनट भी नहीं टिक सकी।

बैरिया : जयप्रकाशनगर क्षेत्र में सुबह से शाम तक बिजली गायब रही। उपभोक्ता अधिकारियों को फोन लगाते रहे, लेकिन कोई सफलता नहीं मिली। शाम को सात बजे सप्लाई चालू की गई।

चिलकहर : विद्युत उपकेंद्र चिलकहर, जाम व टीका देवरी में रविवार की रात से सोमवार को पूरा दिन विद्युत आपूर्ति बाधित रही। कई घरों के लोग पानी के लिए परेशान हुए। इस कटौती से बहुत से लोगों को दूसरे के हैंडपंप से पानी भरकर लाना पड़ा।

इंदरपुर : विद्युत उपकेंद्र सलेमपुर नगरा से जुड़े गांवों में सोमवार को दिन भर बिजली नहीं रही। कई लोग मोबाइल चार्ज करने के लिए भी परेशान हुए। घरों में स्वतंत्रता दिवस का कार्यक्रम भी टीवी पर नहीं देख पाए।

रेवती : स्वतंत्रता दिवस की वर्षगांठ पर सभी लोग खुश थे कि उन्हें बिना कटौती बिजली मिलगी, लेकिन विभाग ने सभी की उम्मीदों पर पानी फेरकर रख दिया। क्षेत्र में ट्रांसफार्मर जलने के मामले भी ज्यादा हैं।

बेरुआरबारी : स्वतंत्रता दिवस की वर्षगांठ पर सभी लोग प्रधानमंत्री का भाषण सुनने को व्याकुल थे, लेकिन बिजली ने ही धोखा दे दिया। क्षेत्र में जर्जर तार टूटने की घटना से भी उपभोक्ता हर दिन परेशान हैं।

Edited By: Jagran