संवाद सहयोगी, पिलखुवा :

सीएमएस (कैश मैनेजमेंट सर्विस) कंपनी के कलेक्शन एजेंटों से हुई लाखों की लूट के मामले में पुलिस को लगभग सफलता मिल चुकी है। जल्द ही वारदात का पर्दाफाश हो सकता है। इस लूट में गाजियाबाद और हापुड़ के लुटेरों के शामिल होने की संभावना व्यक्त की जा रही है।

पुलिस सूत्र की मानें तो पुलिस लुटेरों तक पहुंच गई है। हालांकि पुलिस अधिकारी इस बावत कुछ भी कहने से कतरा रहे हैं। थाना प्रभारी निरीक्षक मुनीष प्रताप सिंह का कहना है कि लुटेरों की धरपकड़ के लिए दबिश दी जा रही है। जल्द ही पर्दाफाश कर दिया जाएगा।

बता दें कि नौ अगस्त की सरेशाम रिलायंस रोड के निकट राष्ट्रीय राजमार्ग के सर्विस रोड पर कार सवार बदमाशों ने लगभग 40 लाख रुपये की नकदी लूट ली थी। इस दौरान विरोध करने पर कंपनी के कार चालक मथुरा प्रसाद आदर्श नगर दिल्ली को गोली मारकर घायल कर दिया गया था। वारदात के बाद एडीजी राजीव सभरवाल, आइजी मेरठ प्रवीण कुमार ने मौके पर पहुंचकर मुआयना किया था। मामले में कंपनी मालिक के पुत्र शशांक विनायक ने रिपोर्ट दर्ज कराई थी। पुलिस अधीक्षक दीपक भूकर ने वारदात का पर्दाफाश करने के लिए एसओजी, साइबर सैल के साथ पुलिस की सात टीमों का गठन किया गया था।

लुटेरों का सुराग लगाने के लिए एलिवेटेड रोड पर लगे सीसीटीवी कैमरों की फुटेज खंगाली गई। मुखबिरों का जाल बिछाया गया। जिस तरह वारदात को अंजाम दिया गया था, उससे प्रतीत हो रहा था कि वारदात में कोई ना कोई स्थानीय लुटेरा भी शामिल हो सकता है। बदमाशों का लूट के बाद लूटी गई कार को यू-टर्न लेकर छिजारसी टोल प्लाजा के निकट हिडालपुर रजवाहे तक लाना। तमाम बिदुओं पर जांच की गई।

Edited By: Jagran