बाढ़ के पानी नहा रहे किशोर की डूबने से मौत

संवाद सूत्र, शमसाबाद : बाढ़ के पानी में नहाते समय किशोर डूब गया। गोताखोरों ने ग्रामीणों के सहयोग से उसे बाहर निकाला, तब तक उसकी मौत हो गई। सूचना पर पुलिस मौके पर पहुंची। गामीणों का आरोप है कि अवैध रूप से बालू खनन करने वालों ने बूढ़ी गंगा में गड्ढे कर दिए, उसी में वह डूब गया।<ङ्कक्चष्टक्त्ररुस्न>गांव सरपालपुर नगरिया निवासी दाताराम का 17 वर्षीय पुत्र सचिन रविवार दोपहर साथी दीपक के साथ गांव के निकट बूढ़ी गंगा में आए बाढ़ के पानी में नहा रहा था। अचानक वह गहरे गड्ढे में चला गया। दीपक ने उसे बचाने का प्रयास किया, लेकिन बचा नहीं सका। जानकारी पर पहुंचे स्वजन व ग्रामीणों ने गोताखोरों के सहयोग से उसे बाहर निकाला, तब तक उसकी मौत हो गई थी। जिला पंचायत सदस्य मनोज मिश्रा मौके पर पहुंचे और अधिकारियों को सूचना दी। पुलिस पंचायतनामा भरने पहुंची तो सचिन की मां मीना देवी ने विरोध कर दिया। उनका रो रोकर हाल बेहाल है। सचिन के एक भाई व दो बहनों में सबसे छोटा था। दो बड़े भाइयों की बीमारी के चलते पहले ही मौत हो चुकी है। ग्रामीणों ने बताया कि रात में यहां बालू का खनन किया जाता था। जिससे बूढ़ी गंगा में गड्ढे हो गए। उन्हीं में सचिन डूब गया।

Edited By: Jagran