संवाद सूत्र, सरायगढ़ (सुपौल): शिक्षा में सुधार को लेकर सरकार की ओर से कई प्रकार की पहल की जा रही है। विद्यालय में छात्र-छात्राओं की शत-प्रतिशत उपस्थिति हो और फिर उसे नियमित रूप से शिक्षा मिले इसके लिए शिक्षकों की तैनाती की गई है। छात्र-छात्राओं के अनुपात में जहां कहीं भी शिक्षकों की कमी है उसकी भी भरपाई हो रही है। विद्यालय में नामांकित छात्र छात्राओं के हिसाब से मिड डे मील सहित अन्य सुविधाएं उपलब्ध कराई जा रही है। लेकिन इतने के बाद भी कोसी के गांव के छात्र छात्राओं के लिए चल रहे मध्य विद्यालय बलथरबा में सिर्फ हाजिरी का खेल चल रहा है। विद्यालय प्रधान तथा शिक्षक दिन भर बैठ कर समय बिताते हैं।

विद्यालय में वर्तमान में 206 छात्र-छात्राओं का नामांकन है लेकिन उपस्थिति एक चौथाई की भी नहीं हो रही है। बुधवार के दिन विद्यालय में मात्र 18 छात्र-छात्रा मौजूद मिले । विद्यालय प्रधान रविद्र राम ने बताया कि वहां नामांकित कई छात्र छात्रा का घर नदी के उस पार है। नदी पार के छात्र-छात्रा माह में कभी-कभार विद्यालय आते हैं। इसीलिए उपस्थिति नहीं के बराबर रहती है। विद्यालय के अगल-बगल के कुछ अभिभावकों ने बताया कि वहां कभी-कभी छात्र छात्रा से अधिक शिक्षक ही दिखाई देते हैं।

प्राथमिक विद्यालय मेहता टोला पिपरा खुर्द वार्ड नंबर 6 में नामांकित 206 छात्र छात्राओं में से 50 उपस्थित मिले । विद्यालय प्रधान किसी काम से बाहर निकले थे। शिक्षक गिरिधर प्रसाद मेहता ने बताया कि वहां 6 शिक्षक की नियुक्ति है। अगस्त का महीना है इसलिए बच्चे कम आ रहे हैं। विद्यालय प्रधान शैलेंद्र कुमार सिंह से फोन पर संपर्क किया तो उन्होंने बताया कि आजकल बच्चे काम आते हैं। नामांकित बच्चों में से 156 आखिर कहां रहते हैं इसका जवाब प्रधान नहीं दे पाए।

Edited By: Jagran