लखनऊ [राज्य ब्यूरो]। समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव ने गुरुवार को कहा कि उत्तर प्रदेश में लोगों के जानमाल की सुरक्षा भगवान भरोसे है। अपराधियों के खौफ के चलते डर का माहौल है। प्रशासन तंत्र का मनोबल गिरा हुआ है। उन्होंने राजभवन की भूमिका पर भी सवाल उठाया।

सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव ने कहा कि मुख्यमंत्री सिर्फ सख्त जुबानी बयानबाजी व जांच की थोथी घोषणाओं के जरिये भी कुर्सी की प्रतिष्ठा बचाने में विफल हैं। उन्होंने सवाल किया कि इतने पर भी राजभवन मूक दृष्टा की भूमिका में क्यों है। उन्होंने प्रतापगढ़, मोहनलालगंज, गाजियाबाद, सीतापुर, अमेठी, औरैया व शाहाबाद, हरदोई की घटनाएं गिनाते हुए कहा कि भाजपा के जंगलराज में महिलाएं एवं बच्चियां सर्वाधिक अपमानित हुई है। त्रस्त जनता धैर्य खो चुकी है और पीड़ित जनता को राजभवन की संवैधानिक उत्तरदायित्व निर्वहन की जिम्मेदारी का इंतजार है।

जनाधार खोती भाजपा अकेली पड़ गई : सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव ने ट्वीट कर कहा कि 'किसान आंदोलन के 50 दिन पूरा होना, भाजपा सरकार के कृत्यों के स्मारक की एक और ईंट साबित होगा। अब तो उनके समर्थक और कार्यकर्ता तक जनता का सामना करने की हिम्मत खो चुके हैं। किसानों के समर्थन में मध्य वर्ग का आना निर्णायक साबित हो रहा है। निरंतर जनाधार खोती भाजपा अकेली पड़ गई है।'

लैपटॉप देकर युवाओं को किया सम्मानित : सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव ने गुरुवार को सलेमपुर देवरिया के दो युवाओं को कम्प्यूटर साइंस में उत्कृष्ट प्रतिभा प्रदर्शन के लिए लैपटॉप देकर सम्मानित किया। सम्मान पाने वालों में देवरिया के गांव रक्सा के सूर्यप्रकाश यादव और गांव दोगारी की अपर्णा यादव शामिल थीं।

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

budget2021