जागरण संवाददाता, कानपुर : सरसौल ब्लॉक के फुफवार सुइथोक, सरसौल और हाथी गांव की 63 हेक्टेयर भूमि पर नई जिला जेल की स्थापना का काम फरवरी या मार्च में शुरू हो जाएगा। इसके लिए भूमि अधिग्रहण के अंतिम दौर की प्रक्रिया शुरू कर दी गई है। दो दिसंबर को उन किसानों की आपत्तियां का निस्तारण होना है, जिनकी भूमि अधिग्रहित की जानी है।

सरसैया घाट के पास स्थित जिला कारागार में क्षमता से अधिक कैदी है। ऐसे में यहां परेशानी होती है। इसलिए पांच बंदियों की क्षमता वाली नई जेल की स्थापना सरसौल में प्रस्तावित है। नई जेल बनने के बाद वर्तमान जेल भवन का उपयोग पर्यटन विकास के रूप में किया जाएगा। पांच साल पहले तत्कालीन मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने इसका निर्णय लिया था। इसके लिए 42 हेक्टेयर भूमि का अधिग्रहण और 21 हेक्टेयर भूमि का पुनर्ग्रहण किया गया है। 3.5720 हेक्टेयर भूमि का बैनामा होना बाकी है। किसानों की आपत्तियां सुनने के बाद आपसी सहमति से यह अधिग्रहण भी पूरा हो जाएगा। सरसौल के हर घर को मिलेगा नल से जल

संवाद सहयोगी, महाराजपुर : कैबिनेट मंत्री सतीश महाना ने रविवार को सरसौल में हर घर नल-हर घर जल योजना के तहत दो पानी की टंकियों का भूमिपूजन कर शिलान्यास किया। बताया कि 4.94 करोड़ रुपये से रामनगर व भेवली में पानी की टंकियां प्रस्तावित हैं। महाना ने कहा कि टंकियां लगने से सरसौल की 22 हजार आबादी को लाभ होगा। सरसौल के एक दर्जन से अधिक मजरों को लाभ पहुंचाने के लिए 25 किमी तक नई पाइप लाइन डाली जाएगी।

सरसौल के साथ फुफुवार सूई थोक,सलेमपुर ,नर्वल,शिशुपुर ,खरोंटी व तिलसहरी ग्राम पंचायतों को भी हर घर नल से जल योजना से जोड़ा जाएगा। इस मौके पर सुरेन्द्र अवस्थी,कमलेश द्विवेदी,विनय मिश्रा,रानू शुक्ला,रमेश कुशवाहा,हरिहर सिंह,अवनेश,अजीत योगेन्द्र,दीपू,नकुल लखन आदि लोग मौजूद थे।

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस