जागरण संवाददाता, बागेश्वर: बर्ड फ्लू के बढ़ते खतरे को देखते हुए पशुपालन विभाग सतर्क हो गया है। जिले के विभिन्न क्षेत्रों से 75 मुíगयों व अन्य पक्षियों के सैंपल एकत्र कर जांच के लिए इंडियन वेटरनरी रिचर्स इंस्टीट्यूट बरेली भेजा गया है। वही मुर्गी पालकों को भी हिदायत दी गई है।

गुरूवार को पशुपालन विभाग ने बर्ड फ्लू की रोकथाम के लिए मुíगयों व अन्य पक्षियों के सैंपल जांच के लिए नमूने एकत्र किए। अब तक 75 सैंपल जांच के लिए बरेली भेजे गए है। वहीं बर्ड फ्लू को देखते हुए जिले के तीनों ब्लाकों कपकोट, बागेश्वर, गरुड़ में रैपिड रिस्पांस टीम गठित कर दी गई है। जो हर गतिविधि पर नजर रख रही है। कोई भी मुर्गी या अन्य कोई भी पक्षी मरता है तो नमूने एकत्र किए जा रहे है। जांच के लिए डाटा आइवीआरआइ बरेली व भोपाल भेजा रहा है।

वहीं मुर्गी पालकों को भी सतर्क रहने की अपील की गई है। उन्होंने कहा कि मुर्गीबाड़े के आस-पास पेड़ों की छटाई आवश्यक रुप से करें। ताकि जंगली पक्षी पेड़ों पर नही बैठ सके। उन्होंने बताया कि बर्ड फ्लू पक्षी की बीट और लार से फैलता है। अगर कोई बीमारी आदि हो तो तुरंत इसकी जानकारी पशुपालन विभाग को दें। इसके अलावा बर्ड फ्लू से निपटने के लिए जिला स्तरीय समिति भी बनाई गई है। जो पल-पल की घटनाओं पर नजर रख रही है। --- पूरी तरह सतर्कता बरती जा रही है। रैपिड रिस्पांस टीम गठित की गई। जो सैंपल जांच के इकठ्ठा कर रहा है। अभी तक जिले में कोई भी बर्ड फ्लू का मामला सामने नही आया है।

-- डा. उदय शंकर, मुख्य पशुचिकित्साधिकारी, बागेश्वर

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

budget2021