जागरण संवाददाता, रामनगर : हरिद्वार के राजाजी टाइगर रिजर्व में भेजे जाने के लिए कार्बेट प्रशासन तीसरी बाघिन की तलाश में जुट गया है। वन कर्मियों की टीम, चार पालतू हाथी व डॉग स्कवायड के अलावा नभ से भी ड्रोन से बाघिन को तलाशा जा रहा है। दो दिन से जंगल छानने के बाद भी बाघिन नजर नहीं आई है।

हरिद्वार के राजाजी टाइगर रिजर्व में बाघों की संख्या बढ़ाने के लिए राष्ट्रीय बाघ संरक्षण प्राधिकरण द्वारा पूर्व में योजना बनाई थी। जिसके तहत दो बाघिन व तीन बाघ कार्बेट पार्क के जंगल से चिन्हित कर राजाजी भेजे जाने हैं। 23 दिसंबर को कार्बेट के बिजरानी जोन से एक बाघिन व आठ जनवरी को ढेला जोन से दूसरा बाघ पकड़ा गया था। अब तीसरी बाघिन भी राजाजी टाइगर रिजर्व भेजी जानी है। इसके लिए कार्बेट प्रशासन ने बाघिन को संभवत: ढेला जोन में चिन्हित कर लिया है। उसे पकडऩे के लिए ढिकाला व कालागढ़ से चार हाथियों को बुलाया गया है।

मंगलवार को ढिकाला से दो हाथी वन कर्मियों की टीम के साथ पहुंच गए। ड्रोन से भी चिन्हित बाघिन को तलाशने की कोशिश की गई। हालांकि अभियान पहले शुरू हो जाता, लेकिन बिजरानी जोन में बाघिन द्वारा एक महिला को निवाला बनाए जाने के बाद अभियान कुछ दिन के लिए थम गया था सीटीआर के पशु चिकित्सक दुष्यंत शर्मा ने बताया कि बाघिन को पकडऩे के लिए कवायद शुरू हो गई है। उम्मीद है कि जल्द बाघिन पकड़ में आ जाएगी।

यह भी पढ़ें : तराई के डोली रेंज में ट्रैप कैमरे में कैद हुए एक साथ दो लेपर्ड, इस रेंज में पहली बार एक साथ देखे गए दो तेंदुए

Uttarakhand Flood Disaster: चमोली हादसे से संबंधित सभी सामग्री पढ़ने के लिए क्लिक करें

kumbh-mela-2021

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप