रांची : कोरोना को लेकर 16 मार्च से ही बंद चल रहे स्कूलों के वर्तमान शैक्षणिक सत्र में खुलने की उम्मीद नहीं दिख रही है। सबकुछ ठीक रहा तो वार्षिक परीक्षा के समय ही स्कूल खुल सकते हैं। हालांकि यह भी कोरोना के संक्रमण की स्थिति पर निर्भर करेगा। बहरहाल स्कूली शिक्षा एवं साक्षरता विभाग स्कूलों को खोलने को लेकर कोई जल्दबाजी नहीं करना चाहता है। सच तो यह है कि स्कूलों को खोलने को लेकर विभाग किसी निर्णय की स्थिति तक में नहीं है।

स्कूली शिक्षा एवं साक्षरता विभाग फिलहाल मैट्रिक एवं इंटरमीडिएट की परीक्षा के अलावा अन्य कक्षाओं की वार्षिक परीक्षाओं के पैटर्न में संशोधन पर काम कर रहा है। नवमी से 12वीं तक के सिलेबस में 40 फीसद की कटौती करते हुए पहले ही संशोधित सिलेबस जारी किए जा चुके हैं। अब परीक्षा के पैटर्न को थोड़ा आसान करने पर काम हो रहा है। इस बार इन परीक्षाओं में वस्तुनिष्ठ प्रश्न अधिक शामिल करने पर विचार किया जा रहा है। वहीं, इस वर्ष की मैट्रिक व इंटरमीडिएट की परीक्षा अगले साल फरवरी-मार्च की बजाय मई-जून माह में लिए जाने पर विचार किया जा रहा है। हालांकि इसपर अभी कोई ठोस निर्णय नहीं हुआ है। विभाग सीबीएसई व अन्य बोर्ड के अलावा दूसरे राज्यों के निर्णयों पर भी नजर रखे हुए है।

--------

कोट

स्कूल कब खुलेंगे इसे लेकर अभी अनिश्चितता की स्थिति है। फिलहाल सिलेबस में कटौती की गई है। इस बार वार्षिक परीक्षा में वस्तुनिष्ठ प्रश्न अधिक शामिल करने पर विचार किया जा रहा है। दूसरे राज्यों तथा बोर्ड के निर्णयों का भी अध्ययन किया जा रहा है।

राहुल शर्मा,

सचिव, स्कूली शिक्षा एवं साक्षरता विभाग, झारखंड सरकार।

-------

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस