संवाद सूत्र, फतेहपुर चौरासी: तीन नवंबर को बांगरमऊ विधानसभा के उपचुनाव में मतदान करने से मना कर रहे ग्रामीणों को मनाने के बाद शुरू हुआ मार्ग निर्माण फिर बंद हो गया। गौरतलब है कि फतेहपुर चौरासी के बूचागाढ़ा गांव का मार्ग एक दशक से खस्ताहाल है। इसकी मरम्मत के लिए हर बार ग्रामीणों को आश्वासन ही मिला था। इस बार निर्माण शुरू होता देख ग्रामीणों में आस जगी थी, लेकिन अचानक मार्ग निर्माण बंद हो जाने से गांव वाले एक बार फिर निराश हो रहे हैं।

बूचा गाढ़ा के लोगों ने बताया कि हम लोगों की प्रशासन से उम्मीद अब खत्म हो गई है। सिर्फ नाम के लिए लगभग 100 मीटर में ईंट की गिट्टी डलवाई गई थी, जो मात्र 12 दिनों में जलमग्न हो गई। जिससे तालाबनुमा बन चुकी सड़क पर भरे गंदे पानी से बीमारियां अलग से पल रही हैं। गांव में किसी प्रकार के मांगलिक कार्यक्रम से भी लोग कतराते हैं। जिसकी मजबूरी होती है। वह सड़क पर भरे पानी को निकालने के लिए इंजन लगवाता है। इसके बावजूद अधिकारी हैं, कि आंखे मूंदे बैठे हैं। ग्रामीणों का कहना है कि चंद दिनों में गांव की एक लड़की की बारात तय है, किन्तु गांव के रास्ते पर तालाब भरा हुआ दिख रहा है। जिससे गांव का सम्मान बनाये रखने के लिए ग्रामीणों ने रास्ते पर भरे पानी को सिचाई इंजन से बाहर निकलवाया है। वहीं लोक निर्माण विभाग के जेई नागेंद्र कुमार ने बताया कि दीपावली त्यौहार के कारण काम बंद कर दिया गया था। ठेकेदार के आने के बाद काम पुन: शुरू कराया जाएगा और सड़क का एस्टीमेट रनिग पर है।

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस