एटा, जागरण संवाददाता: काफी समय से सूने पडे़ ग्रामीण खेल के मैदानों पर जल्दी ही रौनक नजर आएगी। दिसंबर की शुरुआत में युवा कल्याण विभाग द्वारा ग्रामीण खेलकूद प्रतियोगिताओं की कार्य योजना के बाद युवक-युवती मंडलों को प्रशिक्षण देने को कहा गया है। वहीं प्रतिभाशाली खिलाड़ी भी चिन्हित किए जाएंगे।

ग्रामीण क्षेत्रों में खेल गतिविधियां पूरी तरह से ठप पड़ी हुई हैं। युवा कल्याण विभाग द्वारा पिछले साल जिला तथा ब्लाक स्तरीय आयोजन कराए जाने के बाद ही कोरोना संक्रमण शुरू हो गया। हालांकि खेलो इंडिया अभियान के अंतर्गत जिले में 250 से ज्यादा युवक-युवती ग्रामीण खेल मंडलों को खेल उपकरणों की किट वितरित कर दी गई थी, लेकिन कोरोना के चलते ग्रामीण खिलाड़ियों को खेल के मैदानों पर प्रशिक्षण नहीं दिया जा सका था। इस साल फिर से युवा कल्याण विभाग द्वारा ब्लाक तथा जिला स्तरीय खेलकूद प्रतियोगिताओं को दिसंबर में कराने के लिए कार्य योजना बनाई गई है। ब्लाक तथा जिला स्तर पर विभिन्न खेलों में अच्छे खिलाड़ी उभरकर सामने आ सकें इसके लिए सभी मंडलों को बेहतर खिलाड़ी चिन्हित करते हुए उन्हें प्रशिक्षित करने के लिए अभी से ग्रामीण खेल के मैदानों को गतिविधियां कराने के लिए कहा गया है। यदि सब कुछ सही रहा तो कुछ ही दिनों में गांव स्तर पर खेल के मैदानों पर ब्लाक हुआ, जिला स्तरीय प्रतियोगिताओं के लिए खिलाड़ी प्रशिक्षण तथा तैयारी करने से वहां रौनक बढ़ेगी। जिला युवा कल्याण अधिकारी सिराजुद्दीन ने बताया कि नगरीय क्षेत्र में खेल गतिविधियां पहले ही शुरू हो चुकी हैं, लेकिन जल्द ही ग्रामीण क्षेत्रों में भी खिलाड़ी मैदान पर दिखेंगे। अच्छे खिलाड़ियों को चयनित कर उच्च स्तर पर प्रतिभा दिखाने का मौका दिलाया जाएगा।

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस